नई दिल्ली। आईपीएल में मुंबई इंडियंस के खराब प्रदर्शन ने हर किसी को चौंकाया है. अमूमन ये टीम हर बार टूर्नामेंट में धीमी शुरुआत के बाद रफ्तार पकड़ती है और फिर इसे कोई पकड़ नहीं पाता है. लेकिन इस बार हालात बदले नजर आ रहे हैं. धुरंधरों से सजी ये टीम अभी तक पटरी पर लौट नहीं सकी है. कप्तान रोहित शर्मा के लिए यही बात सिरदर्द बन गई है. अब हालात करो या मरो जैसे हैं.

छह में से पांच मैच गंवाए

मुंबई इंडियंस का प्रदर्शन आईपीएल 11 में बेहद खराब रहा है और इसने 5 में से 4 मैच गंवा दिए हैं. अंकतालिका में ये टीम दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ आखिरी पायदान पर है. मुंबई का ऐसा प्रदर्शन हर किसी के चौंकने की वजह बन गया है. टीम एक से एक धुरंधरों से सजी हुई है. बल्लेबाजी में रोहित शर्मा, कीरोन पोलार्ड, एविन लुइस, क्रुणाल पांडया, हार्दिक पांडया, सूर्यकुमार यादव और ईशान किशन जैसे सितारे हैं.

कप्तानी में धोनी जैसा ही दम दिखा रहा ये खिलाड़ी, चेन्नई को चुनौती देने वाली इकलौती टीम

कप्तानी में धोनी जैसा ही दम दिखा रहा ये खिलाड़ी, चेन्नई को चुनौती देने वाली इकलौती टीम

बुमराह का करिश्मा फीका पड़ा

वहीं, गेंदबाजी में जसप्रीत बुमराह जैसे खिलाड़ी इस टीम में हैं, बावजूद इसके टीम को लगातार हार पर हार मिल रही है. चेन्नई के खिलाफ पहले मैच में टीम लगभग जीता हुआ मैच हार गई. राजस्थान के खिलाफ पिछला मैच भी मुंबई ने लगभग जीत ही लिया था, लेकिन आखिरी ओवर में बाजी पलट गई. आज मुंबई का मैच हैदराबाद सनराइजर्स के साथ है. ये मैच जीतना मुंबई के लिए जीतना बेहद जरूरी है वर्ना उसके लिए वापसी बेहद मुश्किल हो जाएगी.

तीन बार रह चुकी है चैंपियन

मुंबई एकमात्र ऐसी टीम है जो तीन बार चैंपियन रह चुकी है. 2017 का खिताब भी मुंबई ने ही जीता था. लेकिन इस बार उसके प्ले ऑफ में पहुंचने पर भी संशय पैदा हो गया है. प्ले ऑफ में पहुंचने के लिए उसे कम से कम 7 मैच जीतना जरूरी है, लेकिन मौजूदा हालातों में ऐसा होता बेहद मुश्किल नजर आ रहा है. टीम अपने 6 में से 5 मैच गंवा चुकी है. किसी भी बल्लेबाज-गेंदबाज में टीम को जिताने का माद्दा नजर नहीं आ रहा है.

रोहित-पोलार्ड का बल्ला खामोश

मुंबई की सबसे बड़ी मुश्किल ये है कि अभी तक कप्तान रोहित शर्मा का बल्ला ठीक से चला नहीं है. वह सिर्फ एक बार ही अर्धशतक बना सके हैं. पांच मैचों में वह सिर्फ 138 रन ही बना सके हैं और अधिकतम स्कोर RCB के खिलाफ 94 रन है. इसके अलावा पोलार्ड, पांड्या बंधुओं ने भी अब तक निराश ही किया है. अगर मुंबई के दो-तीन बल्लेबाज एक साथ नहीं चलेंगे तो टीम जीत के लिए तरसती रहेगी. इसके अलावा इस बार मुंबई की गेंदबाजी भी बेहद कमजोर नजर आ रही है. बुमराह के अलावा कोई और गेंदबाज लय में नजर नहीं आ रहा है.