नई दिल्ली। आईपीएल में पंजाब किंग्स इलेवन चमत्कारिक प्रदर्शन कर रही है. टीम अंकतालिका में दूसरे नंबर पर है. पहले पायदान पर कब्जा चेन्नई सुपरकिंग्स का है. चेन्नई ने अब तक एक ही मैच गंवाया है और उसे हराने वाली टीम है पंजाब. पंजाब ऐसा प्रदर्शन भी कर सकती है, इसकी उम्मीद शायद ही किसी को रही होगी. अब तक पंजाब ने सिर्फ एक मैच गंवाया है और एक वक्त वह अंक तालिका में नंबर वन भी रही.

आईपीएल 2018: ऑरेंज कैप की रोचक लड़ाई, हर मैच के बाद बदल जाता है कब्‍जा

आईपीएल 2018: ऑरेंज कैप की रोचक लड़ाई, हर मैच के बाद बदल जाता है कब्‍जा

दोनों टीमों ने 5 में से चार मैच जीते हैं. ऐसे में इनके बीच तुलना होना भी स्वभाविक है. खिलाड़ी दर खिलाड़ी जानने की कोशिश करते हैं कि किसमें कितना दम है. सबसे पहले बात कप्तानों की. इस बार नीलामी में चेन्नई ने नंबर वन स्पिनर आर अश्विन को नहीं खरीदा. अश्विन पर पंजाब ने दांव लगाया और इसका नतीजा अब सामने है. वह अपनी बेहतरीन रणनीति और कप्तानी से विपक्षी टीमों को घुटने टेकने पर मजबूर कर रहे हैं.

दोनों हैं कूल कप्तान

गौर लायक बात है कि दोनों ही कप्तानों का अंदाज कूल है. धोनी की कप्तानी का स्टाइल और ताकत से हर कोई वाकिफ है. चौंकाया है अश्विन की कप्तानी ने. अश्विन मैच दर मैच एक कप्तान के तौर पर निखरते जा रहे हैं. चाहे गेल को खिलाने का फैसला हो या मैदान पर गेंदबाजों के बेहतरीन इस्तेमाल का, अश्विन ने हर किसी को प्रभावित किया है. वह इस वक्त धोनी की टक्कर के कप्तान दिख रहे हैं. मैदान पर कभी अपना आपा नहीं खोते. शांत दिमाग के साथ मामले को संभालते हैं.

एक से बढ़कर एक खिलाड़ी

सलामी बल्लेबाजी की तुलना करें तो चेन्नई के पास शेन वॉटसन और फाफ डू प्लेसिस हैं तो पंजाब के पास केएल राहुल और मयंक अग्रवाल हैं. इसी तरह मध्यक्रम में चेन्नई के पास सुरेश रैना और अंबाती रायुडू धमाकेदार बल्लेबाजी करते हैं. जबकि पंजाब के पास क्रिस गेल और करुण नायर हैं. इस टीम के पास अक्षर पटेल जैसा स्पिनर भी है. आरोन फिंच जैसा विस्फोटक बल्लेबाज भी पंजाब की तरफ से खेल रहा है. यानि पंजाब के पास चेन्नई का मुकाबला करने के लिए हर तीर मौजूद है.