आईपीएल 2019 के बीच में ही राजस्‍थान रॉयल्‍स ने आठ में से छह मैच हारने के बाद टीम की कमान अंजिंक्‍य रहाणे से लेकर स्टीव स्मिथ को सौंप दी थी. रहाणे जिसके बाद आईपीएल 2020 के लिए ट्रेड के माध्‍यम से दिल्‍ली कैपिटल्‍स का हिस्‍सा बन गए. राजस्‍थान के साथ 2011 से जुड़े रहने वाले रहाणे ने इस टीम के लिए 106 मैचों में 35.60 की औसत से सर्वाधिक 3,098 रन बनाए. टीम मैनेजमेंट के कप्‍तानी से हटाए जाने के मुद्दे पर उन्‍होंने खुलकर अपनी बात रखी.

पढ़ें:- रिकॉर्ड्स में अव्‍वल पर कमाई में विराट के सामने फिसड्डी हैं रोहित शर्मा, जानें धोनी का हाल

हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स अखबार से बातचीत के दौरान अजिंक्‍य रहाणे ने कहा, “आईपीएल में सीजन के बीच में जो कुछ भी हुआ वो मेरे लिए थोड़ा निराशाजनक जरूर था. मुझे लगता है कि क्रिकेट एक टीम स्‍पोर्ट्स है. हम एक खिलाड़ी के खराब प्रदर्शन या अच्‍छे प्रदर्शन से हारते-जीतते नहीं हैं. अगर आप चाहते हैं कि टीम की हार की पूरी जिम्‍मेदारी मैं ले लूं तो ठीक है.”

रहाणे ने कहा, “कप्‍तानी से हटाए जाने का निर्णय लिए जाने के बाद मैं अपने कई दोस्‍तों के साथ बैठा. किसी से भी इस बारे में कोई बातचीत नहीं हुई. मुझे पता है कि मुझे किस तरह से बल्‍लेबाजी करनी चाहिए. मैंने वैसा ही किया. उस दिन दिल्‍ली के खिलाफ मैच था. मैं अपनी आक्रमकता सकारात्‍मक तरीके से दिखाने में विश्‍वास रखता हूं. उस दिन भी मैंने ऐसा ही किया.”

पढ़ें:- दशक के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुने गए भारतीय कप्तान विराट कोहली

“दिल्‍ली कैपिटल्‍स चाहती थी कि मैं उनके लिए खेलूं. मुझे लगा कि मेरे लिए एक खिलाड़ी के तौर पर यह सीखने का यह अच्‍छा मौका है. मैं राजस्‍थान रॉयल्‍स का शुक्रगुजार हूं कि उन्‍होंने मुझे अपनी टीम में इतने सालों तक खेलने का मौका दिया.”

रहाणे ने बताया, “वर्ल्‍ड कप 2019 के दौरान मैं इंग्‍लैंड में ही काउंटी क्रिकेट खेल रहा था. उस वक्‍त सौरव गांगुली दिल्‍ली के मेंटर थे. उन्‍होंने मुझसे पूछा कि क्‍या आप दिल्‍ली के साथ जुड़कर खेलना चाहोगे. मुझे लगा कि यह मेरे लिए एक अच्‍छा मौका होगा. कुछ समय विचार करने के बाद मैंने इसके लिए हामी भर दी. जब सौरव गांगुली के कद का खिलाड़ी आपसे संपर्क करता है तो इससे आपका आत्‍मविश्‍वास काफी बढ़ जाता है.”