भारतीय शीर्ष क्रम बल्लेबाज केएल राहुल (KL Rahul) का कहना है कि वो हमेशा खुद का सर्वश्रेष्ठ वर्जन बनना चाहते हैं। सफलता और असफलता को झेलने के अपने तरीके के बारे में बात करते हुए राहुल ने कहा, “चाहे मैं जो भी कर रहा हूं, मैं हमेशा से मानसिक और शारीरिक तौर पर अपना सबसे बेहतर वर्जन बनने की कोशिश करता हूं।” Also Read - IPL 2020: लगातार दूसरी बार हारी सनराइजर्स हैदराबाद, डेविड वॉर्नर बोले- मुझे अपने फैसले पर कोई पछतावा नहीं

रविवार को दिए बयान में राहुल ने कहा, “बाहर के शोर को ना सुनें। शक? सवाल? हम सभी इनका सामना करते हैं और मैं अलग नहीं हूं लेकिन अहम ये है कि हम इससे कैसे निपटते हैं।” Also Read - KXIP vs RCB: अजीत अगरकर ने विराट के निर्णयों उठाए सवाल, बोले- कभी रेस में ही नहीं थे...

टीम इंडिया से कुछ समय तक बाहर रहने के बाद राहुल ने धमाकेदार वापसी की। पिछले साल राहुल भारतीय क्रिकेट टीम में एक अहम खिलाड़ी के रूप में उभरे। Also Read - IPL शुरू होने के एक सप्‍ताह बाद यूएई पहुंचे जेसन होल्‍डर, इस टीम का होंगे हिस्‍सा

राहुल जब खराब फॉर्म से गुजर रहे थे तो उन्हें एहसास हुआ कि उनका बैट स्विंग उनके शरीर से दूर जा रहा था जो कि सही नहीं था। राहुल ने अपनी तकनीक में सुधार किया, जिससे बल्लेबाजी पर उनका नियंत्रण और बेहतर हुआ। जिसके नतीजे 2019 में उन्हें देखने को मिले।

बल्लेबाजी तकनीक के साथ साथ राहुल ने अपनी फिटनेस पर भी काम किया और खुद को शीर्ष स्तर के खिलाड़ी जितना फिट बनने के लिए तैयार किया।

साल 2014 में अपने दूसरे करियर के दूसरे टेस्ट मैच में शतक जड़ा। साल 2016 में राहुल डेब्यू वनडे मैच में शतक जड़ने वाले पहले भारतीय बने और उसी साल उन्होंने पहला टी20 अंतरराष्ट्रीय शतक भी जड़ा। उसी साल राहुल ने तीनों फॉर्मेट में सबसे तेज शतक जड़ने का रिकॉर्ड तोड़ा।

राहुल आगामी इंडियन प्रीमियर लीग सीजन में किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) की कप्तानी करेंगे। राहुल की अगुवाई में पंजाब टीम 20 सितंबर को दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ मैच के साथ 13वें सीजन का अभियान शुरू करेगी।