पूर्व सलामी बल्लेबाज और मौजूदा समय में पूर्वी दिल्‍ली से सांसद गौतम गंभीर के दिल्‍ली कैपिटल्‍स में हिस्‍सेदारी खरीदने की चचाएं इन दिनों जोरों पर है. दिल्‍ली फ्रेंचाइजी की कप्‍तान कर चुके गंभीर को फिलहाल पार्टनरशिप मिल पाना संभव नहीं है. दिल्‍ली कैपिटल्‍स की तरफ से इस फिलहाल ऐसा कुछ हो पाने की सभी संभावनाओं से इनकार कर दिया है. Also Read - I think this IPL season is going to be more exciting: DC Skipper Shreys Iyer

पढ़ें:- भारत के लिए उड़ान भरने से पहले एरोन फिंच का बड़ा बयान, कहा- हमने… Also Read - IPL Auction 2021: आईपीएल नीलामी के इतिहास के तीसरे सबसे महंगे विदेशी खिलाड़ी बने ग्लेन मैक्सवेल; RCB ने 14.25 करोड़ में खरीदा

न्‍यूज एजेंसी आईएनएस के रिपोर्टर को फ्रेंचाइजी के एक अधिकारी ने बताया, “यह अभी नहीं हो रहा है. उनके बोर्ड में आने की चर्चा थी और अभी भी चर्चाएं ही हैं, लेकिन यह इस सीजन 99.9 प्रतिशत नहीं हो रहा है. अगर यह बाद में होता है तो यह अलग कहानी होगी, लेकिन यह 2020 सीजन से पहले होता नहीं दिख रहा.” Also Read - IPL Auction 2021 Steve Smith sold to Delhi Capitals: 2.2 करोड़ में बिके स्टीव स्मिथ, दिल्ली कैपिटल्स के लिए खेलेंगे स्टीव स्मिथ

कयास यह भी लगाए जा रहे थे कि अगर हिस्‍सेदारी नहीं तो गंभीर को टीम मेंटर बनाया जा सकता है. सौरव गांगुली के बीसीसीआई अध्‍यक्ष बनने के बाद दिल्‍ली कैपिटल्‍स में यह पद खाली पड़ा है. अधिकारी ने इस सवाल पर कहा कि रिकी पोंटिंग की अध्‍यक्षता में बाकी सपोर्ट स्‍टाफ अच्‍छा काम कर रहा है. ऐसे में यह मुद्दा कभी विचार में आया ही नहीं है.

पढ़ें:- कोहली टेस्ट बल्लेबाजों की रैंकिंग में टॉप पर विराजमान, रहाणे और पुजारा को नुकसान

बीसीसीआई की तरफ से गंंभीर द्वारा मेंटर बनने पर हितों के टकराव की बात से इनकार किया है. अधिकारी ने न्‍यूज एजेंसी से कहा, “तकनीकी रूप से कागजों पर हितों के टकराव का मुद्दा नहीं होगा, लेकिन आप जानते हैं कि आजकल किस तरह से चीजें हो रही हैं. कुछ लोग ऐसे हैं जो तवज्जो पाने के लिए लोकपाल को मेल करने की ताक में रहते हैं. लेकिन जैसा मैंने कहा, गंभीर अगर मेंटर बनते हैं तो कागजों पर हितों के टकराव का मुद्दा नहीं होगा.”