इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें एडिशन के आयोजन को लेकर संशय के बादल मंडरा रहे हैं. इस लीग का आयोजन 29 मार्च सके होना था लेकिन कोविड-19 वैश्विक महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए इसे 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया गया है. इस समय इसके आयोजन की चर्चा जोरों पर है. कई खिलाड़ी इसे बंद स्टेडियम में आयोजित कराने की मांग कर रहे हैं वहीं कइयों का कहना है कि इस समय इसके आयोजन को लेकर बात करना लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने जैसा होगा. Also Read - 32 साल के लिए हुए भारतीय उप कप्तान अंजिक्य रहाणे; फैंस समेत साथी खिलाड़ियों ने दी बधाई

अनुबंधित खिलाड़ियों पर BCCI हुआ मेहरबान, मुश्किल समय में किया बड़ा ऐलान Also Read - क्या अंडरवर्ल्ड सरगना दाऊद इब्राहिम की कोरोना से हुई मौत?, सोशल मीडिया में अटकलों का बाजार गर्म

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर और क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी (सीएसी) के सदस्य रहे मदनलाल ने कहा है कि आईपीएल को लेकर फैसला तभी लिया जा सकता है जब कोरोनावायरस से उपजी वर्तमान स्थिति ठीक हो जाएगी. Also Read - राजस्थान में कोरोना वायरस से संक्रमितों का आंकड़ा 10128, अब तक मृतक संख्‍या 219

बकौल मदनलाल, ‘एक बार कोरोनावायरस चला जाए तो क्रिकेट निश्चित तौर पर हो सकता है क्योंकि यह काफी प्रसिद्ध खेल है जिसे लगभग सभी लोग पसंद करते हैं. यहां तक की खिलाड़ी भी दर्शकों के सामने खेलना पसंद करते हैं और यह तभी हो सकता है जब स्थिति ठीक हो जाए.’

मदनलाल ने साथ ही कहा कि बिना दर्शकों के आईपीएल हो इस बात का कोई मतलब नहीं है. 1983 विश्व कप जीतने वाली टीम के सदस्य ने कहा, ‘खाली स्टैंड रहते आईपीएल खेलने का कोई मतलब नहीं हैं. यह सिर्फ खिलाड़ियों और प्रशंसकों की बात नहीं है यह उन लोगों की भी बात है जो प्रसारण आदि जैसे कामों के लिए सफर करते हैं. एक बार स्थिति सुधर जाए तो बाकी सीरीज भी हो सकती हैं और बीसीसीआई खोए हुए समय की भरपाई कर सकती है.’

MS Dhoni की कप्तानी की कायल इस महिला क्रिकेटर ने ‘हिटमैन’ रोहित शर्मा को बताया पसंदीदा बल्लेबाज

गौरतलब है कि टोक्यो ओलंपिक को इस साल जुलाई-अगस्त में होना था उसे एक साल के लिए टाल दिया गया है वहीं आईपीएल को अब तक रद्द नहीं किया गया है.