मौजूदा चैंपियन मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) के खिलाफ पहले मुकाबले में जीत से शुरुआत करने वाली महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की कप्तानी वाली चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Super Kings) को आईपीएल 2020 के चौथे मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा है. मंगलवार को खेले गए मुकाबले में चेन्नई को राजस्थान ने 16 रन से मात दी.Also Read - आज भी मध्यक्रम में महेंद्र सिंह धोनी और युवराज सिंह के विकल्प नहीं ढूंढ पाई है टीम इंडिया: हरभजन सिंह

धोनी इंडियन मुकाबले में फील्ड अंपायर द्वारा अपने फैसले को बदलने के कारण निराश हो गए. अंपायर ने बल्लेबाज को आउट देने क बाद तीसरे अंपायर से मदद मांगी जिसमें उनके फैसले को बदल दिया गया. Also Read - IPL 2022: 27 मार्च से मुंबई में शुरू होगा इंडियन प्रीमियर लीग का 15वां सीजन, सेक्रेटरी जय शाह ने किया ऐलान

फील्ड अंपायर सी शम्सुददीन ने आउट दे दिया था Also Read - अगर स्पिनर बीच के ओवरों में विकेट नहीं लेंगे, तो मैच आपके हाथ से निकल जाएगा: हरभजन सिंह

राजस्थान की पारी के 18वें ओवर में टॉम कर्रन (Tom Curran) को आउट दिए जाने के बावजूद रिव्यू लेने के अंपायरों के फैसले से धोनी खुश नहीं दिखे. दीपक चाहर की गेंद पर विकेटकीपर धोनी द्वारा गेंद पकड़े जाने के बाद मैदानी अंपायर सी शम्सुददीन ने आउट दे दिया. राजस्थान के पास रिव्यू नहीं बचा था और बल्लेबाज पवेलियन लौटने लगा.

इसके बाद हालांकि लेग अंपायर विनीत कुलकर्णी से बात करने के बाद शम्सुददीन को अपनी गलती का अहसास हुआ और उन्होंने तीसरे अंपायर से मदद मांगी. इसके बाद धोनी निराशा में अंपायर से बात करते देखे गए.

टेलीविजन रीप्ले में दिखा की गेंद धोनी के दस्तानों में जाने से पहले टप्पा खा चुकी थी. तीसरे अंपायर ने मैदानी अंपायर का फैसला बदल दिया जिससे धोनी नाखुश दिखे.

…तब धोनी मैदान में घुसकर अंपायर से बहस करने लगे थे

संयोग से, पिछले साल जयपुर में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ ही धोनी ने कमर से ऊपर फुलटॉस गेंद को नो बॉल नहीं दिए जाने के बाद मैदानी अंपायर उल्हास गान्धे के खिलाफ आपा खोया था. इस दौरान धोनी ने मैदान में घुस कर अंपायर से बहस कर खिलाड़ियों की आचार संहिता का उल्लंघन किया था.

इस मैच में राजस्थान की ओर से युवा विकेटकीपर बल्लेबाज संजू सैमसन ने धमाकेदार पारी खेली.