इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) के 13वें एडिशन का आयोजन खाली स्टेडियम में होगा. सबके मन में एक ही सवाल है कि दर्शकों के बिना क्या ये टूर्नामेंट सफल हो पाएगा? ऐसा पहली बार होगा जब ये टी20 टूर्नामेंट दर्शकों के बगैर खेला जाएगा. Also Read - IPL 2020: सचिन तेंदुलकर ने युवा ओपनर रुतुराज गायकवाड़ को लेकर की भविष्वाणी, बोले-वह तो लंबी...

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (Royal Challengers Bangalore) के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) का कहना है कि खाली स्टेडियमों में खेलना अजीब होगा लेकिन उनकी टीम ने आईपीएल ‘बायो बबल’ (bio-bubble) में रहना और दर्शकों के बिना खेलना स्वीकार कर लिया है और 19 सितंबर से शुरू हो रहे टूर्नामेंट में माहौल को बदलने की कोई उत्कंठा नहीं होगी. Also Read - कप्तान धोनी की इस सलाह के दम पर कोविड-19 और अतिरिक्त क्वारेंटीन से गुजरने के बाद भी नहीं घबराए रुतुराज

‘सबसे बड़ी चुनौती हालात को स्वीकार करने की थी’ Also Read - IPL 2020: कोलकाता नाइटराइडर्स के प्लेऑफ में पहुंचने को लेकर आश्वत हैं मेंटर डेविड हसी

आरसीबी (RCB) टीम 21 अगस्त को यूएई पहुंची और दो सप्ताह से अभ्यास कर रही है.  कोहली ने ‘कोविड नायक’ बने नागरिकों के सम्मान में आयोजित वर्चुअल प्रेस कांफ्रेंस में कहा ,‘सबसे बड़ी चुनौती हालात को स्वीकार करने की थी.  हमने जो कुछ उपलब्ध है, उसे स्वीकार करना और सराहना सीख लिया है जिसमें बायो बबल शामिल है. अब हम सुकून महसूस कर रहे हैं.’

‘अगर हम स्वीकार नहीं करते तो आसपास के माहौल से दुखी या निराश होते’

उन्होंने कहा ,‘अगर हम स्वीकार नहीं करते तो आसपास के माहौल से दुखी या निराश होते लेकिन मेरी टीम के हर सदस्य के चेहरे पर मुस्कान है.  कोई हताशा या निराशा नहीं. ’ उन्होंने कहा ,‘यह अजीब होगा, इससे इनकार नहीं किया जा सकता. अभ्यास सत्रों और अभ्यास मैचों के बाद हालांकि धारणा थोड़ी बदली है. आखिर में हमने खेलना इसलिये शुरू किया क्योंकि हमें खेल से प्यार है.  दर्शक खेल का अहम हिस्सा हैं लेकिन आप इसके लिए नहीं खेलते.  स्टेडियम खाली होने के यह मायने नहीं है कि हमारे प्रदर्शन में कोई कमी रहेगी.’