रविवार को शुरू होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2021) के दूसरे चरण से पहले रॉयल चेलेंजर्स बेंगलोर (RCB) के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने कहा है कि वनिंदु हसारंगा (Wanidu Hasaranga) और दुश्मंता चमीरा (Dushmantha Chameera) की प्रतिभा यूएई के माहौल में टीम के काम आएगी। उन्होंने यह भी कहा कि हसरंगा और चमीरा ऐसे खिलाड़ी हैं जो इन परिस्थितियों को जानते हैं।Also Read - IND vs PAK: सौरव गांगुली ने उजागर की विराट एंड कंपनी की सबसे बड़ी कमजोरी, बोले-हमारे वक्‍त में मैं और वीरू...

हाल ही में क्वारेंटीन खत्म कर टीम से जुड़े कप्तान कोहली ने कहा, “हमने बदलाव किए हैं। हमें कुछ रिप्लेसमेंट मिले हैं। केन रिचर्डसन और एडम जम्पा पहले चरण में हमारे साथ थे और टीम का एक अभिन्न हिस्सा हैं। उन्होंने पूरी तरह से समझने योग्य कारणों से दूसरे चरण का हिस्सा नहीं बनने का फैसला किया। उन लोगों के बदले हमें दो खिलाड़ी मिले हैं जो इन परिस्थितियों को जानते हैं। हसरंगा और चमीरा दो ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने श्रीलंका में इतना क्रिकेट खेला है और वे समझते हैं कि इस तरह की पिचों पर कैसे खेलना है।” Also Read - T20 World Cup 2021: Virat Kohli मंझे हुए खिलाड़ी, पाक के खिलाफ उन्होंने शानदार पारी खेली: गावस्कर

उन्होंने कहा, “उनका कौशल निश्चित रूप से हमारे लिए बहुत बड़ी मदद होगी। दुबई में खेलना, ये समझना कि गर्म और उमस भरे हालात कैसे हो सकते हैं और पिचें कैसी होंगी। ऐसा महसूस होता है कि आने वाले लोग संस्कृति में, सेटअप में और टीम की योजनाओं में बहुत अच्छी तरह से मिश्रण कर रहे हैं। हम मजबूत महसूस करते हैं। इसने हमें कुछ छोटे आयाम दिए हैं जिन्हें टीम में जोड़ा जा सकता है।” Also Read - Team India Next Coach: Rahul Dravid ने किया भारत के हेड कोच पद के लिए आवेदन

आरसीबी इस समय अंक तालिका में 10 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर है, जिसमें उसने अपने सात मैचों में से पांच में जीत हासिल की है और दो में उसे हार का सामना करना पड़ा है।

कोहली ने कहा कि टीम अप्रैल और मई में दिखाए गए जुनून और प्रतिबद्धता के साथ दूसरे चरण की शुरूआत करेगी। उन्होंने कहा, “इस स्तर पर इतने लंबे समय तक इस खेल को खेलने के बाद, आप समझते हैं कि चाहे आप लगातार सात मैच जीतें हों, फिर भी आपको उसी तरह के जुनून और प्रतिबद्धता के साथ शुरूआत करनी होगी। आपको वहां जाने और परिणाम बदलने के लिए अपने अंदर प्रेरणा और उस जुनून को खोजना होगा। इसलिए, आप किसी भी चीज को हल्के में लेने का जोखिम नहीं उठा सकते।”

कप्तान ने कहा, “आपको हार से निराश नहीं होना चाहिए और निश्चित रूप से जीत को हल्के में नहीं लेना चाहिए। हमने कभी नहीं देखा, ‘ओह, कितनी जीत बाकी है? क्वालिफाई करने के लिए हमें कितने की आवश्यकता है?’ हमने बस उस पर बिल्कुल ध्यान नहीं दिया।”