आगामी टी20 विश्व कप के बाद टी20 फॉर्मेट में भारतीय टीम की कप्तानी छोड़ने का ऐलान करने के बाद विराट कोहली (Virat Kohli) 14वें सीजन के बाद आईपीएल (IPL) फ्रेंचाइजी रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) की कप्तानी छोड़ने का ऐलान कर दिया है। यानि कि अगले आईपीएल सीजन में आरसीबी किसी और खिलाड़ी के नेतृत्व में खेलेंगे लेकिन सवाल ये है कि टीम का नया कप्तान होगा कौन?Also Read - ICC T20 Rankings: बाबर आजम नंबर-1 बल्‍लेबाज बनने के करीब, रिजवान- एडेन मार्करम ने लगाई बड़ी छलांग

पूर्व भारतीय महिला क्रिकेटर अंजुम चोपड़ा (Anjum Chopra) ने इस सवाल पर चर्चा करते हुए कहा है कि आरसीबी की टीम में फिलहाल कोई ऐसा युवा खिलाड़ी नहीं है जो टीम की कमान संभाल सके। Also Read - India vs Pakistan: फेक थी Mohammed Shami की ट्रोलिंग, पाकिस्तान से जुड़े दिखे साजिश के तार, टि्वटर पर छाया #ShamiKiFarziTrolling

आईएएनएस के अपने कॉलम में उन्होंने आरसीबी की तुलना महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) टीम के की। चोपड़ा ने लिखा, “चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) के पास महेंद्र सिंह धोनी हैं और उनके जैसे खिलाड़ी, लीडर और संरक्षक के साथ, आप आगे नहीं सोचते हैं। लेकिन उन्हें भी आने वाले महीनों में इसके लिए योजना बनानी होगी।” Also Read - 'आप कोहली के लिए बदकिस्मत हैं...' T20 World Cup में पाक से टीम इंडिया हारी तो इस कदर ट्रोल हुईं Anushka Sharma

पूर्व क्रिकेटर ने बताया कि सीएसके टीम में सुरेश रैना (Suresh Raina) के साथ रुतुराज गायकवाड़ जैसे युवा खिलाड़ी हैं जो आने वाले समय में टीम का नेतृत्व संभाल सकते हैं।

उन्होंने लिखा, “सुरेश रैना भले ही विचार कर रहे हों, लेकिन उन्होंने अब खेल के सभी फॉर्मेट से संन्यास ले लिया है, इसलिए वो केवल एक फ्रेंचाइजी क्रिकेटर रह गए हैं, इसलिए रुतुराज गायकवाड़ जैसा प्रतिभाशाली खिलाड़ी मैदान में आ सकता है। वो युवा हैं, भारतीय चयनकर्ताओं के जरिए पहचानी गई प्रतिभा खिलाड़ियों के शीर्ष अधिकारियों में से हैं और फ्रेंचाइजी ने उन पर आत्मविश्वास दिखाया है।”

चोपड़ा ने लिखा, “धोनी के साथ बिताए उनके दिन संभवत: महाराष्ट्र के खिलाड़ी के लिए सबसे अच्छे हैं। उन्हें धोनी ने सीएसके के लिए चुना है। वो एक युवा प्रतिभा जिसे शुरू से ही पहचाना और तैयार किया गया है। इस तरह का विकल्प फिलहाल आरसीबी के पास मौजूद नहीं है। टीम में बड़े नाम हैं, लेकिन फ्रेंचाइजी का नेतृत्व करने के लिए अभी तक कोई युवा प्रतिभा नहीं देखी गई है।”

उन्होंने लिखा, “देवदत्त पडिक्कल एकमात्र युवा खिलाड़ी हैं जो विकल्प हो सकते हैं। उनका स्थान प्लेइंग इलेवन में निश्चित है और भारतीय क्रिकेट के साथ उनका भविष्य संभव है। फिर से, एक खिलाड़ी जो घरेलू क्रिकेट से निकला है और कर्नाटक में अपने जूनियर दिनों से ही अच्छा प्रदर्शन कर रहा है”

पूर्व क्रिकेटर ने आगे लिखा, “मेरा मानना है कि लीडर की गति टीम की गति होती है। हां, टीम का हर खिलाड़ी बेहद जरूरी है और आत्मनिर्भर होने की भी जरूरत है, लेकिन इसका नेतृत्व करने के लिए आपको शीर्ष पर एक ठोस लीडर की जरूरत है।”