इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2021) में पहली बार कप्तानी कर रहे रिषभ पंत (Rishabh Pant) की कप्तानी से पूर्व भारतीय ओपनर वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) काफी नाराज हैं. उन्होंने कहा कि रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ पंत ने जिस तरह से कप्तानी की उसे देखकर उन्हें 10 में से 5 नंबर भी नहीं दे सकता. दिल्ली कैपिटल्स की टीम आरसीबी के खिलाफ मैच के 19वें ओवर तक पूर कंट्रोल में दिख रही थी. लेकिन मार्कस स्टोइनिस से पंत ने 20वां ओवर फिंकवाकर अपनी टीम को दबाव में लाने की भारी गलती कर दी.Also Read - शोएब अख्तर जानते थे कि वह अपनी कोहनी को मोड़ते हैं और चकिंग भी करते हैं: Virender Sehwag

स्टोइनिस को पारी का आखिरी ओवर फेंकने के लिए दिया गया और उस समय बैंगलोर के विस्फोटक बल्लेबाज एबी डिविलियर्स (AB De Villiers) क्रीज पर थे, जिन्होंने स्टोइनिस की जमकर पिटाई की और 6 गेंदों में 3 छक्कों की मदद से 23 रन कूट दिए. दिल्ली की टीम इस गलती की भरपाई नहीं कर पाई और उसने 1 रन से यह मैच गंवा दिया. Also Read - पूरे टूर्नामेंट में हम एक मैच जीतने के बाद दूसरा हार रहे थे, इसका बदलना जरूरी था: रिषभ पंत

सहवाग इस बात काफी नाराज थे कि पंत ने मुंबई इंडियंस के खिलाफ मैन ऑफ द मैच रहे अपने स्टार स्पिनर अमित मिश्रा (Amit Mishra) से पूरे 4 ओवर नहीं फिंकवाए, जबकि उन्होंने ग्लेन मैक्सवेल जैसे खतरनाक बल्लेबाज का विकेट निकाला था. मिश्रा को यहां सिर्फ 3 ओवर की ही बॉलिंग मिली. सहवाग ने पंत की कप्तानी की आलोचना करते हुए उन्हें 10 में से सिर्फ 3 नंबर दिए हैं. Also Read - 4 गेंदों पर 4 छक्के मारने वाला मैच विनर नहीं होता: पूर्व क्रिकेटरों ने की रिषभ पंत की बल्लेबाजी की आलोचना

नजफगढ़ के नबाव के नाम से मशहूर सहवाग क्रिक बज पर दिल्ली कैपिटल्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बीच खेले गए मैच की समीक्षा कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने कहा इस युवा कप्तान को यह सीखना होगा कि वह अपने बॉलिंग यूनिट के साथ पूरा न्याय करें.

सहवाग ने पंत की कप्तानी की आलोचना करते हुए कहा, ‘मैं उन्हें कप्तानी के लिए 10 में से 5 नंबर भी नहीं दे पाऊंगा. क्योंकि आप कप्तानी में इतनी गलतियां नहीं कर सकते. अगर आपका मुख्य गेंदबाज ही बॉलिंग नहीं कर पा रहा है तो आपकी सारी कैल्कुलेशन गलत है. एक कप्तान को परिस्थितियों के लिहाज से अपने बॉलिंग संसाधनों का उपयोग करना आना ही चाहिए.’

42 वर्षीय सहवाग ने कहा, ‘आपको ये सीखना होगा. नहीं तो आप किसी को भी बॉल दे देंगे. किसी कप्तान की क्षमता इसी से आंकी जाती है कि वह परिस्थितियों के लिहाज से खेल को कैसे घुमाता है. उसे अपनी बॉलिंग और फील्डिंग में इसके अनुसार ही बदलाव करने पड़ते हैं.’

उन्होंने कहा, ‘अगर पंत एक अच्छा कप्तान बनना चाहते हैं तो उन्हें ये छोटी-छोटी चीजें सीखनी होंगी. स्मार्ट क्रिकेट खेलकर ही आप स्मार्ट कप्तान बन सकते हो.’