पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में कोलकाता नाइट राइडर्स (Kolkata Knight Riders) को दो बार खिताब जिताया है लेकिन लोग अक्सर ये भूल जाते हैं कि साल 2010-2011 के बीच उन्होंने टीम इंडिया की कप्तानी की थी। Also Read - 'धोनी ने मुझे कहा था, टीम के सबसे तेज धावक को हराते रहने तक खेलना जारी रखेंगे'

इस दौरान गंभीर का जीत प्रतिशत 100 था। उनकी कप्तानी में खेले सभी 6 वनडे मैचों में भारत ने जीत हासिल की थी। पूर्व ऑलराउंडर इरफान पठान (Irfan Pathan) का कहना है कि उनके मुताबिक गंभीर को और मैचों के लिए टीम इंडिया की कप्तानी करनी चाहिए थी। Also Read - अख्तर ने याद किया वो किस्सा- जब धोनी को जानबूझकर बीमर फेंकने के बाद मांगी थी माफी

क्रिकेट डॉट कॉम से बातचीत में गंभीर ने कहा, “लोग राहुल द्रविड़ के बारे में ज्यादा बात नहीं करते हैं। तो, जो लोग राहुल द्रविड़ के बारे में ज्यादा बात नहीं करते हैं, क्या वे उसे नापसंद करते हैं? नहीं। उनकी कप्तानी में भारत ने लगातार 16 वनडे मैच जीते थे। लेकिन अक्सर ये चीजें भुला दी जाती हैं।” Also Read - ‘मैंने युवराज की पीठ तोड़ी’: शोएब अख्तर ने याद किया पुराना किस्सा

पठान ने कहा, “मैं सौरव गांगुली का बहुत सम्मान करता हूं, मेरे मन में राहुल द्रविड़, अनिल कुंबले की कप्तानी के लिए सम्मान है और मुझे लगता है कि जितनी अच्छी कप्तानी उन्होंने की, उस हिसाब से गौतम गंभीर को टीम इंडिया की और कप्तानी करनी चाहिए थी। वो एक बहुत अच्छे लीडर हो सकते थे।”

विश्व कप विजेता कप्तान धोनी के बारे में बात करते हुए पूर्व ऑलराउंडर ने कहा, “मैं विराट कोहली और रोहित शर्मा की प्रशंसा करता हूं लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि मैं महेंद्र सिंह धोनी को पसंद नहीं करता। एक विजेता कप्तान के रूप में, एक परिणाम दिलाने वाले कप्तान के रूप में और जिसके पास एक उत्कृष्ट टीम थी, वो महेंद्र सिंह धोनी थे।”