अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके भारतीय तेज गेंदबाज इरफान पठान के करियर को करीब से देखने वाले कई समीक्षकों का मानना है कि भारतीय टीम के लिए सलामी बल्लेबाजी की शुरुआत करने की वजह से उनकी गेंदबाजी खराब हुई। हालांकि पठान ऐसा बिल्कुल नहीं मानते। पठान ने बताया कि उनसे सलामी बल्लेबाजी करवाने का विचार टीम मैनेजमेंट तक सचिन तेंदुलकर ने पहुंचाया था।

आईएएनएस से बातचीत में इरफान ने कहा, “ये सचिन के विचार थे। ये सिर्फ ग्रेग चैपल का विचार नहीं था। मैंने हमेश बल्लेबाजी का लुत्फ लिया है। मैं जूनियर स्तर पर भी टॉप आर्डर में बल्लेबाजी किया करता था। लोग कहते हैं कि बल्लेबाजी की वजह से मेरी गेंदबाजी खराब हुई लेकिन ऐसा नहीं था। मैंने अचानक बल्लेबाजी नहीं शुरू की थी। ये मैं काफी पहले से करता आ रहा था।”

35 साल के पठान ने भारत के लिए सभी फारमेट्स में कुल 173 मैच खेले और 2821 रन बनाए। पठान ने भारत के लिए 29 टेस्ट, 120 वनडे और 24 टी-20 मैच खेले हैं। इरफान ने 2004 में पाकिस्तान दौरे से सुर्खियां बटोरी थीं।

35 साल की उम्र में इरफान पठान ने क्रिकेट को कहा अलविदा

इरफान ने कहा, “मेरे लिए ये यात्रा शानदार और संतोष से भरी रही है। आप हमेशा बेहतर करना चाहते हैं। आप हमेशा ज्यादा मौके चाहते हैं। आप हमेशा खेल के हर फॉर्मेट में देश के लिए कुछ करना चाहते हैं लेकिन आप हर बार सफल नहीं हो सकते। मुझे याद है कि मेरे पुराने साथी कहा करते थे कि मैंने अपने करियर में अच्छे दिनों की तुलना में खराब दिन ज्यादा देखे हैं। लेकिन मेरे लिए क्रिकेट सबसे ऊपर है और मैं आज जो कुछ भी हूं इस खेल की बदौलत हूं।”