भारतीय तेज गेंदबाज इशांत शर्मा (Ishant Sharma) ने कहा है कि वो सही मायने में पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) को 2013 के बाद समझ सके थे। याद दिला दे कि साल 2013 में टीम इंडिया ने धोनी की कप्तानी में चैंपियंस ट्रॉफी जीती थी, जहां इंग्लैंड के खिलाफ फाइनल मैच में इशांत ने अहम भूमिका निभाई थी। Also Read - बीएस येदियुरप्पा की बेटी भी कोविड-19 की जांच में संक्रमित, बेटे को किया गया क्वारंटीन

स्टार स्पोर्ट्स के शो के दौरान इशांत ने कहा कि उस दौरान उन्होंने धोनी से ज्यादा बातें कीं और इसी दौरान उन्होंने धोनी के शांत स्वभाव को समझा और जाना कि वो युवाओं के साथ कैसे पेश आते हैं। उन्होंने कहा, “शुरुआत में धोनी के साथ मेरी बातचीत कम थी, लेकिन 2013 के बाद मैंने उनसे बात करना और उन्हें समझना शुरू किया।” Also Read - BCCI SOP: 60 साल के अरुण लाल और 65 साल के डेव वाटमोर अब नहीं दे सकते कोचिंग, जानिए वजह

इशांत ने कहा, “तब मुझे पता चला कि वो कितने शांत हैं और वो कितने अच्छे से युवाओं से बात करते हैं, कैसे उनसे पेश आते हैं। वो मैदान पर भी ऐसे ही होते हैं। उन्होंने हमसे कभी भी कमरे में आने को मना नहीं किया। आप मोहम्मद शमी से पूछ सकते हैं, वो धोनी के कमरे में ज्यादा जाते हैं। वो हमेशा से ऐसे रहे हैं। और उनके साथ समय बिताने में अलग ही मजा आता है जब आप उनसे जिंदगी और क्रिकेट के बारे में इतना कुछ सीख सकते हैं।” Also Read - Coronavirus Cases In India: 24 घंटे में कोरोना से 771 लोगों की गई जान, 52 हजार से अधिक संक्रमित

इशांत ने अपने करियर की अधिकतर क्रिकेट धोनी के मार्गदर्शन में खेली है। उन्होंने 2016 में अपना आखिरी वनडे और 2013 में अपना आखिरी टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेला था लेकिन वो टीम इंडिया के घातक पेस अटैक का अहम हिस्सा हैं।

कोरोना वायरस की वजह से क्रिकेट लग ब्रेक के बीच इशांत ने पिछले महीने से ट्रेनिंग शुरू कर दी है। उन्होंने अपने इंस्टाग्राम वीडियो पर ट्रेनिंग का वीडियो भी पोस्ट किया है। इशांत का लक्ष्य दिसंबर में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर होने वाली बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के लिए खुद को तैयार करना है।