ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भारतीय पेस अटैक की अहम कड़ी बनाकर लौटे मोहम्मद सिराज (Mohammed Siraj) गुरुवार को भारत लौट आए हैं. इस युवा तेज गेंदबाज हैदराबाद एयरपोर्ट पर पहुंचते ही सबसे पहले अपने पिता मोहम्मद घोस की कब्र का रुख किया. यहां पहुंचकर उन्होंने पिता की आत्मा की शांति के लिए दुआ की और उनकी कब्र पर फूल भी चढ़ाए. सिराज ने कहा कि उनके लिए यह दौरा बहुत मुश्किल था और पिता की मौत की खबर सुनकर वह मानसिक दबाव में थे.Also Read - IND vs AUS 2022: सितंबर में ऑस्ट्रेलिया करेगी भारत का दौरा, दोनों देश खेलेंगे सिर्फ यह एक सीरीज

सिराज ने भारत लौटकर आज मीडिया से बातचीत की. इस दौरान इस 26 वर्षीय युवा गेंदबाज ने कहा, ‘यह मुश्किल था और मानसिक रूप से मैं दबाव में था. जब मैंने घर वापस लौटने को कहा तो मेरे परिवार ने मुझे मेरे पिता का सपना पूरा करने के लिए कहा था. मेरी मंगेतर ने भी मुझे प्रेरित किया और मेरी टीम ने भी मुझे सपॉर्ट दिया.’ Also Read - Sachin Tendulkar Birthday: जब अपने जन्मदिन के मौके पर सचिन तेंदुलकर ने इंडिया को दिया था जीत का तोहफा

Also Read - IPL 2022 में सेलिब्रेशन का 'अजब-गजब' अंदाज, नंबर-5 ने कर दी 'दिमाग की दही'

घर लौटकर अपने दिवंगत पिता को याद करते हुए सिराज ने कहा, ‘मैं अपने सभी विकेट उन्हें (पिता) समर्पित करता हूं. मैंने मयंक अग्रवाल के साथ जो विकेट लेने का सेलीब्रेशन किया था, वह उन्हें ही समर्पित था.’

सिराज ने पिता की मौत की खबर सुनकर खुद को संभाला था और ऑस्ट्रेलिया में 26 दिसंबर को मेलबर्न में खेले गए बॉक्सिंग डे टेस्ट में उन्हें अपने टेस्ट करियर का आगाज करने का मौका मिला. इसके बाद इस युवा गेंदबाज ने यहां पीछे मुड़कर नहीं देखा. इस दौरे पर उन्होंने 3 टेस्ट मैच खेले और अपनी क्षमताओं को साबित किया.

सिराज ने 4 टेस्ट की सीरीज के आखिरी मैच में अपना पहला 5 विकेट हॉल भी पूरा किया. उन्होंने 3 टेस्ट खेलकर कुल 13 विकेट अपने नाम किए. भारत ने यह सीरीज 2-1 से अपने नाम की, जिसमें इस तेज गेंदबाज की भूमिका भी अहम रही.