भारत के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने शनिवार को स्वीकार किया कि युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) जैसे खिलाड़ी को टी20 विश्व कप की टीम से बाहर रखने का फैसला कठिन था लेकिन यूएई की धीमी पिचों पर गेंदबाजी में रफ्तार के कारण राहुल चाहर (Rahul Chahar) को चुना गया।Also Read - T20 World Cup 2021 में भारत के फ्लॉप शो पर Sourav Ganguly बोले- टीम इंडिया का सबसे खराब प्रदर्शन

राजस्थान के चाहर ने आईपीएल के इस सीजन में मुंबई इंडियंस के लिए 11 मैचों में 13 विकेट लिए लेकिन आखिरी चरण में उन्हें टीम में जगह नहीं मिली। वहीं चहल ने 15 मैचों में 18 विकेट लिए और हर्षल पटेल (32 विकेट) के बाद उन्होंने आरसीबी के लिए सर्वाधिक विकेट चटकाए। Also Read - IND vs NZ, 2nd Test: Virat Kohli के साथ नाइंसाफी, Shane Warne का भारतीय कप्तान को सपोर्ट

कोहली ने टी20 विश्व कप से पहले आईसीसी कप्तानों की प्रेस कांफ्रेंस में कहा ,‘‘ये चुनौतीपूर्ण फैसला था लेकिन हमने इसलिए राहुल चाहर को चुना क्योंकि पिछले कुछ सीजन में उसने शानदार गेंदबाजी की और वो रफ्तार के साथ गेंदबाजी करता है।’’ Also Read - IND vs NZ, 2nd Test: Ajaz Patel की गेंद पर 'क्लीन बोल्ड' हुए Ravichandran Ashwin, रिव्यू मांगकर अंपायर को हैरत में डाला

उन्होंने कहा कि चाहर के प्रदर्शन में निरंतरता पर भी चयन समिति की बैठक में बात की गई। उन्होंने कहा,‘‘हमारा मानना है कि टूर्नामेंट में विकेट धीमे होते जाएंगे। ऐसे में अधिक रफ्तार से गेंदबाजी करने वाले धीमे गेंदबाज बल्लेबाजों को ज्यादा परेशान कर सकेंगे। राहुल ऐसा गेंदबाज है जो विकेट चटकाने की कला में माहिर है। चहल को बाहर रखने का फैसला हालांकि काफी कठिन था लेकिन विश्व कप टीम में संख्या सीमित होती है और हर किसी को जगह नहीं मिल सकती।’’

उन्होंने तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार का भी बचाव किया जिन्हें आईपीएल के दौरान यूएई में अधिक स्विंग नहीं मिल सकी। उन्होंने कहा, ‘‘उसकी इकॉनामी रेट लाजवाब है। दबाव के हालात में अनुभव काफी काम आता है। सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ आईपीएल के हमारे आखिरी मैच में हमने देखा कि किस तरह उसने एबी डिविलियर्स के खिलाफ गेंदबाजी की जो दुनिया में टी20 क्रिकेट के सबसे खतरनाक दो या तीन फिनिशर्स में से हैं।’’