नई दिल्ली.  एक क्रिकेटर के लिए वो सबसे शानदार पल होता है जब उसे उसके बेहतर प्रदर्शन का ईनाम मिलता है, उसे अवार्ड मिलता है. लेकिन घरेलू क्रिकेट के स्टार खिलाड़ी जलज सक्सेना के लिए ये अवार्ड अब अपमान बन गया है. इसे लेने में उन्हें अब बेइज्जती महसूस होती है. दरअसल, जलज को घरेलू क्रिकेट में बढ़िया प्रदर्शन के लिए माधव राव सिंधिया अवार्ड के लिए चुना गया है. ये अवार्ड बीसीसीआई उन्हें अगले हफ्ते बंगलुरू में होने वाले अवार्ड समारोह में देगी. लेकिन अपने इस सम्मान को लेकर जलज नाराज हैं. उनका मानना है कि पिछले साल में जब उन्हें इंडिया ए की टीम तक के लिए भी नहीं चुना गया तो फिर उन्हें ये अवॉर्ड देकर बेइज्जत क्यों किया जा रहा है.

अवार्ड या अपमान!

जलज ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘ आप अवॉर्ड तो दे रहे हैं लेकिन ये अच्छे प्रदर्शन का ईनाम नहीं है. मैं BCCI से ये जानना चाहता हूं कि पिछले 4 सालों में बेहतरीन प्रदर्शन के लिए मुझे अवॉर्ड देकर सम्मानित तो किया जा रहा है लेकिन इंडिया A टीम में जगह क्यों नहीं मिल पा रही है. और, अगर मुझे इंडिया ए टीम में शामिल नहीं किया गया है तो मेरे लिए इस अवॉर्ड का कोई मतलब नहीं बल्कि इस अवॉर्ड से तो मैं खुद को अपमानित महसूस कर रहा हूं. इससे मैं बेहद दुखी हूं, जब मुझसे सब पूछते हैं कि बीसीसीआइ आपको पिछले 4 सालों से अवॉर्ड दे रही है लेकिन टीम में नहीं चुन रही है तो मुझे बहुत बुरा लगता है.’

पिछले रणजी सीजन में 49 विकेट

रणजी ट्रॉफी के 2014-15 सीजन में जलज को बेस्ट ऑल राउंडर के खिताब से नवाजा गया था. 2015-16 के सीजन में भी वो बेस्ट ऑल राउंडर बने थे. 2017-18 में भी ये खिताब उन्ही के नाम रहा. मूल रूप से मध्य प्रदेश के खिलाड़ी रहे 31 साल जलज सक्सैना पिछले 12 सालों से क्रिकेट खेल रहे हैं. पिछले साल वो केरल शिफ्ट हुए और वहां की टीम से खेलना शुरू किया है. रणजी ट्रॉफी के पिछले सीजन में जलज ने सबसे ज्यादा 49 विकेट हासिल किए, जिसके चलते उन्हें माधव राव सिंधिया अवॉर्ड के लिए चुना गया.