नई दिल्ली: विराट कोहली को लगता है कि ‘जब तक भारत जीत रहा है तब तक अगर वह रन नहीं बनाते तो यह मायने नहीं रखता’ लेकिन इंग्लैंड के आक्रमण तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने कहा कि अगर भारतीय कप्तान यह कहता है कि एक अगस्त से शुरू हो रही पांच टेस्ट की श्रृंखला में व्यक्तिगत फॉर्म मायने नहीं रखेगी तो वह झूठ बोल रहा है. एक इंटरव्यू के दौरान जब एंडरसन से कोहली के बयान के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘वह रन बनाए या नहीं यह मायने नहीं रखता ? मुझे लगता है कि वह झूठ बोल रहा है.’’ Also Read - ICC Test Team Rankings: न्यूजीलैंड को पछाड़ फिर आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन बनी टीम इंडिया, इंग्लैंड को रौंदने का मिला तोहफा

Also Read - शर्मनाक हार के बाद बोले Joe Root, 'पहला मैच तो ठीक था, लेकिन बाकी में हम Team India की बराबरी नहीं कर पाए'

कोहली को 2014 में यहां रन बनाने के लिए जूझना पड़ा था और वह पांच टेस्ट में 134 रन ही बना पाए थे जो टेस्ट क्रिकेट में उनके सबसे खराब प्रदर्शन में से एक है. हालांकि कोहली इंग्लैंड के खिलाफ 2016-17 की घरेलू श्रृंखला के दौरान इंग्लैंड के खिलाफ भारत की 4-0 की जीत के दौरान पांच टेस्ट में 655 रन बनाने में सफल रहे थे. Also Read - India vs England 4th Test Records: इंग्लैंड के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच में लगी रिकॉर्ड्स की झड़ी, नरेंद्र मोदी स्टेडियम में आर अश्विन ने की इमरान खान की बराबरी

भुवी की भरपाई करेंगे ‘सरजी’ और ‘लंबू’, इंग्लैंड में विराट डालेंगे जीत का ‘तंबू’!

मौजूदा दौरे की शुरुआत में कोहली ने अपनी फॉर्म को लेकर किए सवाल को हंसी में टालते हुए कहा था कि वह यहां खेलने का लुत्फ उठाना चाहते हैं और जब तक टीम अच्छा कर रही है तब तक वह अपनी व्यक्तिगत फॉर्म को लेकर चंतित नहीं हैं. एंडरसन ने कहा, ‘‘भारत में यहां जीतने के लिए बेशक यह मायने रखता है. विराट अपनी टीम के लिए रन बनाने के लिए बेताब होगा, जैसा कि आप कप्तान और दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी में से एक से उम्मीद करते हो.’’

श्रीलंका ने कोलंबो टेस्ट में द.अफ्रीका को 199 रन से हराया, सीरीज पर 2-0 से किया कब्जा

इस 35 वर्षीय तेज गेंदबाज का कोहली के खिलाफ रिकॉर्ड शानदार है. उन्होंने 2014 के दौरे में छह पारियों में चार बार कोहली को आउट किया था. कुल मिलाकर टेस्ट मैचों में एंडरसन कोहली को पांच बार आउट कर चुके हैं. एंडरसन को हालांकि 2016 के भारत दौरे के दौरान जूझना पड़ा था और वह तीन टेस्ट में चार विकेट ही हासिल कर पाए थे. एंडरसन ने कहा, ‘‘आज क्रिकेटर मैच फुटेज देखकर ही नहीं बल्कि अतीत के अनुभव से भी सीखते हैं. इसलिए मैं उम्मीद करता हूं कि कोहली के स्तर के बल्लेबाज ने यहां पिछली श्रृंखला (2014 में) से सीखा होगा.’’