नई दिल्ली : ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज जेसन बेहरेनडोर्फ ने शनिवार को सिडनी में भारत के खिलाफ अपने इंटरनेशनल वनडे डेब्यू से पहले मजाक में कहा था कि वह पहले ओवर में विकेट लेंगे और मैच में ऐसा ही हुआ. लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम चौथे ओवर में चार रन पर तीन विकेट गंवा दिये थे जिसमें बेहरेनडोर्फ ने पहले ओवर में ही सलामी बल्लेबाज शिखर धवन को शून्य पर आउट किया था. Also Read - IND vs AUS, 1st ODI: आकाश चोपड़ा ने ऑलराउंडर्स के विभाग में भारत को पाया कमजोर, बोले- हार्दिक के पास...

Also Read - Aus vs Ind, 1st ODI, Preview: ऑस्ट्रेलिया में भारत के 'संकटमोचन' रोहित शर्मा के बिना पहला वनडे खेलने उतरेगी टीम इंडिया

बेहरेनडोर्फ ने रविवार को एडिलेड कहा, ‘‘ पहले ओवर में मैं थोड़ा परेशान था. लेकिन जिस तरह से पहला ओवर हुआ मैं इससे से ज्यादा उम्मीद नहीं कर सकता था. मैंने अपने साथियों से कहा था कि मैं अपने पहले एकदिवसीय के पहले ओवर में विकेट लेना चाहूंगा और ऐसा हो गया. इससे मेरी परेशानी थोड़ी कम हुई.’’ Also Read - ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले टीम इंडिया में ऑलराउंडर खिलाड़ियों की कमी

विजय शंकर की सफलता के पीछे है राहुल द्रविड़, बताया कैसे किया बैटिंग में सुधार

नये गेंद से उनके जोडीदार रिचर्डसन ने कप्तान विराट कोहली और अंबाती रायुडू का विकेट लेकर भारत को बैकफुट पर धकेल दिया जहां से टीम वापसी करने में नाकाम रही. उन्होंने कहा, ‘‘ रिचर्डसन और मैंने साझेदारी में काम किया. मेरी मुख्य ताकत गेंद को स्विंग कराना है. वह बहुत तेज गेंदबाजी करता है. हमारी योजना शुरुआत में विकेट लेने की थी और किस्मत ने हमारा साथ दिया. पीटर सिडल ने बीच के ओवरों में अच्छी गेंदबाजी की और मुझे लगा कि सभी गेंदबाजों ने वास्तव में शानदार गेंदबाजी की. हमारे पास सरल योजनाएं थीं और अधिकांश समय हम उस पर खरे उतरे.’’

बेहरेनडोर्फ ने मैच में 39 रन देकर दो विकेट लिये जिसमें अनुभवी महेन्द्र सिंह धोनी का विकेट भी शामिल है. उन्होंने धोनी का विकेट ऐसे समय लिया जब सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा के साथ उनकी 141 रन की साझेदारी हो गयी थी. ऑस्ट्रेलिया यह मैच 34 से जीता और तीन मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त कायम की.

एडिलेड पहुंची टीम इंडिया, दूसरे वनडे से पहले बड़ा बदलाव

उन्होंने कहा, ‘‘ रोहित और धोनी ने बड़ी साझेदारी की. हम नर्वस नहीं थे लेकिन हम थोड़े दबाव में जरूर थे. मैच ऐसे मोड़ पर पहुंच गया था जहां विकेट नहीं मिलने पर वह हमारे हाथ से निकल सकता था. इस साझेदारी के टूटते ही मैच का रूख बदल गया. धोनी के बाद हम रोहित का विकेट लेने में भी सफल रहे.’’