नॉटिंघम। इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट में भारत की शानदार जीत में अहम योगदान जसप्रीत बुमराह ने दिया. चोट की वजह से पहले दो मैचों से बाहर रहे बुमराह ने बता दिया कि वह टीम के लिए कितने अहम हैं. पहले दोनों मैचों में टीम इंडिया में न सिर्फ बुमराह गैरमौजूद थे, बल्कि चोट की वजह से भुवनेश्वर कुमार अब तक कोई टेस्ट मैच नहीं खेल सके हैं.

बुमराह ने पलट दी बाजी

इन दोनों गेंदबाजों की गैरमौजूदगी में ईशांत शर्मा, उमेश यादव, मो. शमी ने तेज गेंदबाजी की कमान संभाल रखी थी. हालांकि इन गेंदबाजों ने भी अच्छा प्रदर्शन किया है, लेकिन बुमराह की वापसी ने पास ही पलटकर रख दिया. इंग्लैंड को 317 के स्कोर तक समेटने में जसप्रीत बुमराह का अहम योगदान रहा. उन्होंने 85 रन देकर पांच विकेट लिए. एक वक्त जब जोस बटलर और बेन स्टोक्स की जोड़ी भारत के लिए मुसीबत खड़ी कर रही थी, बुमराह ने ही इस साझेदारी का अंत किया. उनके अलावा ईशांत शर्मा ने दो, रविचंद्रन अश्विन, मोहम्मद शमी और हार्दिक पांड्या ने एक-एक विकेट लिए. भारत ने ये मैच 203 रनों से जीत लिया.

बल्लेबाजों ने भी दिखाया जज्बा

हालांकि, इस जीत में टीम के बल्लेबाजों का भी अहम योगदान रहा जिन्होंने दोनों पारियों में जबरदस्त जज्बा दिखाया. कप्तान विराट कोहली जहां पहली पारी में शतक से चूक गए वहीं दूसरी पारी में इसे पूरा करके ही दिखाया. दूसरी पारी में उन्होंने 103 रन बनाए. इसके अलावा दूसरी पारी में चेतेश्वर पुजारा और हार्दिक पांड्या ने भी जोरदार पारी खेली. पहले दो मैचों में लचर प्रदर्शन के चलते बल्लेबाज आलोचकों के निशाने पर थे.

ट्रेंट ब्रिज टेस्ट पर टीम इंडिया का कब्जा, इंग्लैंड को 203 रनों से हराया

भारत ने अपनी पहली पारी में 329 रन बनाए थे और इंग्लैंड को पहली पारी में 161 रनों के स्कोर पर ढेर कर दिया. इसके बाद भारत ने कप्तान विराट कोहली (103) के 23वें शतक, चेतेश्वर पुजारा (72) और हार्दिक पांड्या के नाबाद 52 रनों के दम पर अपनी दूसरी पारी सात विकेट के नुकसान पर 357 रनों पर घोषित कर दी थी.