मेलबर्न: ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चल रही मौजूदा टेस्ट सीरीज के तीसरे मैच में भारतीय टीम जीत की राह पर है. दूसरी पारी में बल्लेबाजों के खराब प्रदर्शन के बाद भी ऑस्ट्रेलिया हार की कगार पर है तो इसका सबसे बड़ा कारण तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह हैं. बुमराह ने ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी में छह विकेट झटककर भारत को 292 रनों की विशाल बढ़त दिला दी. करियर के शुरुआती दिनों में छोटे फॉर्मेट के विशेषज्ञ माने जाने वाले बुमराह की गेंदबाजी से सभी प्रभावित हैं. खुद बुमराह ने बताया कि घरेलू क्रिकेट के अनुभव ने उन्हें सिक्सर पंच लगाने में मदद की.

बुमराह ने कहा कि प्रथम श्रेणी क्रिकेट में धीमी पिचों पर रिवर्स स्विंग हासिल करने के अनुभव ने उन्हें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे टेस्ट में एमसीजी की पिच पर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करके छह विकेट झटकने में मदद की. बुमराह ने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 15.5 ओवर में 33 रन देकर छह विकेट हासिल किए. इसके साथ ही वे उपमहाद्वीप में एक ही वर्ष में दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में पांच या इससे ज्यादा विकेट चटकाने वाले पहले गेंदबाज बन गए.

बुमराह ने शुक्रवार को कहा, ‘‘जब मैं गेंदबाजी कर रहा था, विकेट काफी धीमी हो गई थी और गेंद मुलायम हो गयी थी. मैंने धीमी गेंद फेंकने की कोशिश की. सोचा कि यह नीचे जाएगी या फिर शॉर्ट कवर पर जाएगी. यह कारगर रहा क्योंकि गेंद को रिवर्स स्विंग मिलने लगी थी.’’ उन्होंने कहा, ‘‘जब हम अपनी सरजमीं पर इसी तरह के विकेट पर खेलते थे तो गेंद रिवर्स होती थीः इसलि, आप इसका पूरा फायदा उठाने की कोशिश करते हैं. हम प्रथम श्रेणी क्रिकेट में अपने अनुभव का इस्तेमाल यहां भी करने की कोशिश कर रहे थे क्योंकि प्रथम श्रेणी क्रिकट में हमें रिवर्स स्विंग गेंद फेंकने का अच्छा अनुभव है. यही योजना थी.’’

बुमराह की शानदार गेंदबाजी से ऑस्ट्रेलियाई टीम बॉक्सिंग डे टेस्ट के तीसरे दिन पहली पारी में महज 151 रन पर सिमट गई. इस तेज गेंदबाज ने इस साल नौ टेस्ट में 45 विकेट हासिल किए हैं लेकिन वह टेस्ट क्रिकेट में अपने पदार्पण सत्र में शानदार फॉर्म से हैरान नहीं हैं. उन्होंने कहा, ‘‘मैं हैरान नहीं हूं. अगर मैं कहूंगा कि मैं खुद पर भरोसा नहीं करता तो और कौन करेगा? मैं किसी भी परिस्थिति में अच्छा करने की कोशिश करता हूं. हां, शुरुआत अच्छी रही है और मैंने इंग्लैंड, दक्षिण अफ्रीका और यहां खेला हूं, जहां तीनों जगह अलग-अलग तरह के हालात रहे हैं.’’

VIDEO: धोनी का नाम लेकर पंत को टिम पेन ने किया स्लेज, कहा- ‘बिगबैश लीग’ में खेलो

बुमराह ने कहा, ‘‘हां, मैं भारत में टेस्ट मैच में नहीं खेला हूं लेकिन जब आप विभिन्न देशों में खेलने जाते हो तो आप कुछ नया सीखते हो और आपको खेलने का अनुभव मिलता है. मेरी अच्छी शुरुआत रही है, देखते हैं कि यह आगे कैसा जाता है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं हमेशा टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहता था, लेकिन लोगों ने मुझे प्रथम श्रेणी क्रिकेट में ही देखा था. मुझे हमेशा खुद पर भरोसा रहा कि जब भी मुझे मौका मिलेगा, मैं अच्छा करने में सफल रहूंगा. उम्मीद है कि मैं सीखना और खुद को बेहतर करना जारी रखूंगा.’’

साउथ अफ्रीका से ऑस्ट्रेलिया तक… बुमराह ने वो कर दिखाया जो पहले किसी एशियाई ने नहीं किया

बुमराह ने जोहानिसबर्ग और नाटिघंम के बाद तीसरी बार टेस्ट क्रिकेट में पांच विकेट झटके, भारत ने इन दोनों मौकों पर जीत दर्ज की थी. इस गेंदबाज ने कहा कि हालांकि दूसरी पारी रणनीति के अनुसार नहीं रही, लेकिन भारत चौथे दिन ज्यादा से ज्यादा रन जुटाने की कोशिश करेगा तथा ऑस्ट्रेलिया को दूसरी बार समेटने का प्रयास करेगा.

मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया को फॉलोऑन नहीं खिलाने का फैसला गलती नहीं, विराट की स्ट्रैट्जी है

उन्होंने कहा, ‘‘हमारी ऐसी कोई योजना नहीं थी. हम बस पॉजीटिव क्रिकेट खेलना चाहते थे. हां, हमने कुछ ज्यादा ही विकेट गंवा दिये, जबकि हम ऐसा नहीं चाहते थे. लेकिन हम ज्यादा से ज्यादा रन जोड़ने की कोशिश करेंगे और उम्मीद करते हैं कि जब हम अगली पारी में गेंदबाजी करने आएंगे तो हम उन्हें जल्दी आउट कर पाएंगे.’’