नई दिल्ली : ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर भारतीय टीम को मिली जीत में अहम भूमिका निभाने वाले जसप्रीत बुमराह का कहना है कि वह वनडे प्रारूप में पदार्पण के बाद केवल टेस्ट क्रिकेट में खेलने के बारे में ही सोचते थे. भारत ने तीसरे टेस्ट मैच में रविवार को ऑस्ट्रेलिया को 137 रनों से हरा दिया. मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर मिली इस जीत से भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चार टेस्ट मैचों की सीरीज में 2-1 से बढ़त बना ली है और बुमराह को इसमें मैन ऑफ द मैच के पुरस्कार से नवाजा गया.

बुमराह ने इस मैच में कुल नौ विकेट अपने नाम किए और वह एक तेज गेंदबाज के रूप में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए टेस्ट मैच में सबसे अधिक विकेट लेने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बन गए. उन्होंने इस क्रम में दिग्गज खिलाड़ी कपिल देव को पछाड़ा है.

सिडनी टेस्ट के लिए ऑस्ट्रेलिया ने किया टीम का ऐलान, ऑलराउंडर खिलाड़ी को दिया मौका

मैच के बाद अपनी खुशी जाहिर करते हुए बुमराह ने कहा, “टेस्ट क्रिकेट खेलना एक शानदार एहसास है. फिर चाहे वह बॉक्सिंग डे मैच हो या कोई और दिन. मैंने हमेशा से नियमितता पर ध्यान दिया है. मैंने जब वनडे में पदार्पण किया था तो उसके बाद से ही मैं केवल टेस्ट क्रिकेट में खेलने के बारे में सोचता रहता था.”

मेलबर्न में बुमराह का रिकॉर्ड तोड़ प्रदर्शन, कपिल देव को पीछे छोड़ा

बता दें कि बुमराह ने अब तक 18 टेस्ट पारियों में गेंदबाजी की है. इस दौरान उन्होंने 48 विकेट झटके. बुमराह का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 86 रन देकर 9 विकेट लेना रहा. उन्होंने टेस्ट मुकाबलों में 3 बार पांच-पांच विकेट लिए हैं. जब कि इससे पहले 60 फर्स्ट क्लास पारियों में 137 विकेट ले चुके हैं. उन्होंने इस दौरान 9 बार पांच या इससे ज्यादा विकेट लिए. दिलचस्प बात यह है कि बुमराह ने 44 वनडे इंटरनेशनल पारियों में 78 विकेट चटकाये हैं.