दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में अब महज एक हफ्ता रह गया है. इस दौरान भारतीय क्रिकेट टीम और प्रबंधन को पेसर जसप्रीत बुमराह के रूप में एक बड़ा झटका लगा है. बोर्ड ने बताया कि बुमराह को पीठ के निचले हिस्से में हल्का फ्रैक्चर है और इसी कारण वह दक्षिण अफ्रीका के साथ होने वाली गांधी-मंडेला सीरीज से बाहर हो गए हैं.

ऐसा भी कयास लगाया जा रहा था कि बुमराह बांग्लादेश के खिलाफ होने वाली सीरीज में वापसी कर सकते हैं मगर टीम प्रबंधन के सूत्रों ने बताया कि कप्तान कोहली और कोच रवि शास्त्री आगामी टी-20 वर्ल्ड कप 2020 को ध्यान में रखते हुए बुमराह के संबंध में कोई भी रिस्क नहीं लेना चाहते हैं. उनका कहना है कि बुमराह जब तक पूरी तरीके से ठीक नहीं हो जाते तब तक उन्हें आराम दिया जाएगा.

स्रोत के मुताबिक, आगामी वेस्टइंडीज सीरीज के लिए भी टीम प्रबंधन किसी भी तरीके का शॉर्टकट नहीं लेना चाहती है. बुमराह भारतीय टीम की एक महत्वपूर्ण कड़ी है जिसका फिट होना टीम के लिए बहुत जरूरी है. इन सबसे ये साफ तौर पर जाहिर है कि बुमराह अब इस साल के विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में भारत के अभियान में कोई भूमिका नहीं निभाएंगे.

‘इंडियन स्पोर्ट्स आनर्स’ का दूसरा चरण होगा शुक्रवार को, ये हैं कुछ नॉमिनेशन

बुमराह की वापसी के सवाल पर सूत्र ने कहा कि जब बुमराह पहले की तरह खुद को फिट महसूस करने लगेंगे तब उनकी वापसी तय है. ये निर्धारित समय से पहले भी हो सकता है और बाद में भी. हालही में, पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज जहीर खान ने जसप्रीत बुमराह को ‘विशिष्ट प्रतिभा’ करार देते हुए कहा था  कि उनका अलग तरह का एक्शन उनकी कमजोरी नहीं बल्कि मजबूत पक्ष बन गया है. जहीर ने कहा था, ‘‘वह (बुमराह) विशिष्ट प्रतिभा है. वह एक्शन अलग तरह का है जिससे उसे बल्लेबाजों पर हावी होने में मदद मिली. वह सीखने और अच्छा प्रदर्शन करने के लिये बेताब रहता है”.

कप्तान कोहली ने विंडीज के खिलाफ हुए टेस्ट सीरीज के बाद यह कहा था कि बुमराह टेस्ट चैंपियनशिप में भारतीय टीम का एक अहम हिस्सा हैं. मगर दुख की बात ये है कि अब टीम को बिना इस पेसर के पूरी प्रतियोगिता खेलनी होगी.