नई दिल्ली: पाकिस्तान के पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद ने टेस्ट क्रिकेट से टॉस की परंपरा खत्म करने के प्रस्ताव का समर्थन किया है. मियांदाद ने कहा कि इससे मेजबान टीमें अपने को रास आने वाली पिचों की बजाय बेहतर पिचें बनाने पर जोर देंगी. एक अन्य पूर्व कप्तान सलीम मलिक ने कहा कि आईसीसी को खेल की परंपरा से छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिये. मियांदाद ने कहा, ‘‘मुझे टॉस की परंपरा खत्म करने के प्रयोग में कोई खामी नजर नहीं आती.’’ उन्होंने कहा, ‘‘इससे मैच खासकर टेस्ट क्रिकेट अच्छी पिचों पर खेला जायेगा.’’

इस महीने मुंबई में आईसीसी की क्रिकेट समिति की बैठक में इस पर बात की जायेगी कि खेल से टॉस खत्म कर देना चाहिये या नहीं. मियांदाद ने कहा, ‘‘हमने हाल ही में देखा है कि पाकिस्तान ने यूएई में मैच जीते हैं जहां पिचें धीमी और कम उछाल वाली होती है लेकिन ऑस्ट्रेलिया या न्यूजीलैंड में वह जूझती नजर आई है. इसके लिये जरूरी है कि अच्छी पिचों पर क्रिकेट खेला जाये.’’

VIDEO: चेन्नई की जीत के बाद जीवा ने किया क्यूट डांस, धोनी के साथ जमकर की मस्ती

वहीं मलिक ने कहा कि टॉस से खेल और रोचक हो जाता है. उन्होंने कहा, ‘‘इससे कप्तान की चतुराई और उपयोगिता की परख हो जाती है. कई बार टॉस के समय लिये गए फैसलों से मैच के नतीजे पर असर पड़ता है. टॉस खत्म करने की बजाय मैच रैफरियों और अंपायरों की तरह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्यूरेटर भी होने चाहिये.’’

सोशल मीडिया पर वायरल हुआ करुण नायर का ‘डांसिंग शू शॉट’, देखें वीडियो

बता दें कि जावेद मियांदाद पाकिस्तानी टीम के पूर्व खिलाड़ी रह चुके हैं. उन्होंने 124 टेस्ट मैच खेले हैं, जिनमें 8832 रन बना चुके हैं. इस दौरान उन्होंने 23 शतक और 6 दोहरे शतक जड़े हैं. इसके अलावा 43 अर्धशतक जड़े हैं. उन्होंने 17 विकेट भी हासिल किए हैं. इसके अलावा 233 वनडे मुकाबलों में 7381 रन बना चुके हैं, मियांदाद ने वनडे मैचों में 8 शतक और 50 अर्धशतक लगाए हैं.