नई दिल्ली: श्रीलंका में आगामी निदाहस टी20 ट्रॉफी में भारतीय तेज गेंदबाजी की आक्रमण का नेतृत्व करने वाले जयदेव उनादकट इस मौके पूरा फायदा उठाकर अगले साल होने वाले एकदिवसीय विश्व कप की टीम में अपनी जगह सुनिश्चित करना चाहते हैं.

उनादकट ने 2016 में जिम्बाब्वे के खिलाफ हरारे में टी20 मैच से आगाज किया था लेकिन इसके बाद वह एक साल से ज्यादा समय तक टीम से बाहर रहे और श्रीलंका के खिलाफ दिसंबर में खेली गयी घरेलू श्रृंखला से उन्होंने वापसी की.

IPL2018: सबसे ज्यादा छक्के जड़ने वाले इस खिलाड़ी को नहीं मिल रहा था खरीदार, पढ़ें टॉप पांच बल्लेबाज

इस तेज गेंदबाज की नजरें अब टी20 विश्व कप और अगले साल इंग्लैंड में होने वाले विश्व कप पर है. हालांकि वह अभी 50 ओवर प्रारूप में टीम का हिस्सा नहीं है. उनादकट ने कहा, ‘‘ मैं ऐसा सोचता हूं कि यह आने वाले बड़े टूर्नामेंट की तैयारी है, ना की सिर्फ टी20 विश्व कप लेकिन एकदिवसीय के लिए भी. जैसा की मैंने कहा यह टीम में जगह बनाने के बारे में, मैदान पर अपने कौशल दिखाने के साथ अब टीम प्रबंधन को भी मुझ पर भरोसा है.’’

VIDEO: धोनी ने फिर से किए लम्बे बाल, देखें बाहुबली जैसा दिलचस्प लुक

उनादकट के मुताबिक श्रीलंका के खिलाफ उनकी रणनीति वैसी ही रहेगी जैसी पिछली घरेलू श्रृंखला में थी. उन्होंने कहा, ‘‘ पक्के तौर पर, यह हमारे लिए फायदेमंद होगा. हमें उनके मजबूत पक्षों के बारे है पता है. पिछली बार हम टी20 में भिड़े थे और इस बार भी हम टी20 में ही खेलेंगे. उनके बल्लेबाजों के लिए हमें रणनीति बनाने में फायदा होगा. कुछ नये खिलाड़ी आए है हम उनके लिए भी रणनीति बनाएंगें.’’