नई दिल्ली : न्यूजीलैंड के हरफनमौला जिम्मी नीशाम ने कहा कि आगामी विश्व कप के लिये टीम में चुना जाना उन्हें सपने जैसा लग रहा है क्योंकि 18 महीने पहले खराब फॉर्म और चोटों के कारण वह क्रिकेट को अलविदा कहने का मन बना चुके थे और उन्हें मनोवैज्ञानिक से सलाह लेनी पड़ी थी. न्यूजीलैंड के लिये 12 टेस्ट , 49 वनडे और 15 टी20 मैच खेल चुके नीशाम को 30 मई से शुरू हो रहे विश्व कप के लिये न्यूजीलैंड की 15 सदस्यीय टीम में चुना गया है. Also Read - New Zealand v West Indies 2nd T20: ग्लेन फिलिप्स के रिकॉर्ड शतक से न्यूजीलैंड ने जीती टी20 सीरीज

नीशाम को 2015 विश्व कप टीम में नहीं चुना गया और 2017 चैम्पियंस ट्रॉफी के बाद टीम से बाहर कर दिया गया था.खराब फार्म और चोटों से जूझ रहे नीशाम ने कहा कि उन्हें न्यूजीलैंड क्रिकेटर संघ के सीईओ हीथ मिल्स से बात करके संन्यास की इच्छा जताई थी. उन्होंने कहा, ‘‘मैं संन्यास लेने के करीब पहुंच गया था. मैने हीथ मिल्स को फोन करके कहा कि मैं संन्यास लेना चाहता हूं. उन्होंने मुझे कहा कि छोटा ब्रेक ले लो और तीन चार सप्ताह बाद लौट आना.’’ Also Read - सिडनी वनडे में बल्लेबाजी के दौरान मैक्सवेल ने केएल राहुल से मांगी थी माफी, जिमी नीशम ने उड़ाया मजाक

पाकिस्तान ने घोषित की वर्ल्ड कप 2019 की संभावित टीम Also Read - New Zealand vs Pakistan 2020: न्यूजीलैंड की पाकिस्तान क्रिकेट टीम को चेतावनी, 'दोबारा गलती की तो वापस घर भेज देंगे'

नीशाम ने कहा, ‘‘उसके बाद मैने वापसी की कोशिश की और अब टीम में हूं जो सपने जैसा लगता है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैने एक मनोवैज्ञानिक से भी सलाह ली जो काफी मददगार साबित हुई. चार या पांच सत्र में ही मुझे फर्क महसूस होने लगा.’’

गौरतलब है कि जिम्मी न्यूजीलैंड के बैटिंग ऑलराउंडर हैं. उन्होंने 49 वनडे मैचों में 1015 रन बनाए हैं, साथ ही 44 विकेट भी लिए हैं. जबकि 12 टेस्ट मैचों में 709 रन बनाने के साथ-साथ 14 विकेट हासिल किए. नीशाम ने 15 टी-20 इंटरनेशनल मैच भी खेले हैं. इस दौरान उन्होंने 122 रन बनाए और 11 विकेट लिए. इससे पहले वो घरेलू मैचों में अच्छा प्रदर्शन कर चुके हैं.