भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्‍लेबाज आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने मौजूदा समय में बीसीसीआई अध्‍यक्ष और भारतीय टीम के कप्‍तान रह चुके सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) की दुखती रग पर हाथ रख दिया। अपने यू-ट्यूब चैनल पर उन्‍होंने आईपीएल के शुरुआती दिनों में कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) में सौरव गांगुली और कोच जॉन बुकानन (John Buchanan) के बीच के रिश्तों की खटास पर बातचीत की।Also Read - 'Ben Stokes अपने आप में दो खिलाड़ियों के बराबर हैं, उनका नहीं खेलना भारत के लिए अच्‍छी खबर'

आकाश चौपड़ा (Aakash Chopra) ने बताया है कि शुरुआत में यह सबकुछ अच्छा था लेकिन 2009 तक चीजें बिगड़ गई थीं। “आईपीएल के पहले साल में, टीम में जॉन बुकानन थे और रिकी पोंटिंग (Ricky Ponting) भी थे। गांगुली टीम के कप्तान थे और मैंने इन सभी को करीब से देखा है- इनके रिश्ते शुरुआत में अच्छे थे लेकिन बाद में खराब हो गए।” Also Read - हर्षल गिब्‍स को BCCI की खरी-खरी, POK की कश्‍मीर प्रीमियर लीग में खेलने वाले क्रिकेटर्स की होगी IPL से छुट्टी

चोपड़ा ने कहा, “बुकानन का काम करने का तरीका अलग था और गांगुली का अलग था। अंत में वह गांगुली को कप्तानी से हटाना चाहते थे, जो अगले सीजन में हुआ क्योंकि पहले सीजन में टीम छठे स्थान पर रही थी और गांगुली जब कप्तान नहीं थे तब टीम आठवें स्थान पर रही थी।” Also Read - बेहतर खिलाड़ी बनने के लिए रोहित-कोहली से सीख लेने की कोशिश करते हैं रिषभ पंत

चीजें 2009 तक काफी बिगड़ गई थीं और टीम ने सीजन का अंत सबसे नीचे रहते हुए किया ता। कोच को हटा दिया गया था और गांगुली को 2010 में दोबारा कप्तान बनाया गया था। “अंत में बुकानन को जाना पड़ा। कुछ चीजें बढ़ा चढ़ाकर बताई गईं, मैं इसलिए यह कह सकता हूं क्योंकि मैंने यह चीजें देखी थीं। वह लोग तीन कप्तान बनाने की बात कर रहे थे, जो हुआ नहीं। लेकिन ऐसा होता है कि अगर एक चीज बिगड़ती है तो बाकी चीजों पर इसका असर पड़ता है।”