नई दिल्ली : ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज जॉन हेस्टिंग्स ने कहा कि उनका क्रिकेट करियर खत्म हो सकता है क्योंकि वह फेफड़ों की रहस्यमय बीमारी से जूझ रहे हैं और जब भी वह गेंदबाजी करते हैं तो उनके मुंह से खांसी के साथ खून आता है. क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में ऑस्ट्रेलिया का प्रतिनिधित्व कर चुके इस 32 वर्षीय आलराउंडर को बिग बैश लीग में सिडनी थंडर्स की तरफ से खेलना था लेकिन उन्होंने कहा कि स्थिति लगातार बिगड़ रही है.

हेस्टिंग्स ने ऑस्ट्रेलियाई ब्रॉडकास्टिंग कारपोरेशन से कहा, ‘‘जब भी मैं गेंदबाजी कर रहा हूं तब ऐसा हो रहा है. दौड़ने से नहीं केवल गेंदबाजी करने से ऐसा हो रहा है. मैं मुक्केबाजी, वजन उठाना, रोइंग आदि कर सकता हूं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन जैसे ही मैच में (गेंदबाजी का) दबाव बनता है, मैं गेंदबाजी करता हूं तो मेरे फेफड़ों की रक्त वाहिकाएं फट जाती है. मैं वापस रन अप पर लौटता हूं और खांसी करने पर कुछ खून बाहर निकल आता है.’’

पृथ्वी शॉ के बाद शुभमन गिल भी टीम इंडिया में शामिल, विहारी-सिराज टेस्ट सीरीज से बाहर

हेस्टिंग्स को कई साल पहले इस बीमारी का पता चल गया था लेकिन कई तरह के परीक्षणों और आपरेशन के बाद भी यह पता नहीं चल पाया है कि उन्हें गेंदबाजी करते समय ही ऐसा क्यों होता है. उन्होंने कहा, ‘‘यह डरावना है लेकिन वे पक्के तौर पर नहीं बता सकते हैं कि इससे दीर्घकालिक नुकसान नहीं होगा.’’

बर्थडे स्पेशल: गौतम गंभीर की वो ताबड़तोड़ पारी जब श्रीलंकाई टीम ने टेके घुटने, देखें VIDEO

हेस्टिंग्स ने ऑस्ट्रेलिया की तरफ से एक टेस्ट, नौ टी20 और 29 वनडे खेले हैं और वह अपना करियर जारी रखना चाहते हैं लेकिन उन्हें लगता है कि यह संभवत: समाप्त हो गया है. उन्होंने कहा, ‘‘मैंने ताउम्र यही खेल खेला है और मैं इसे खेलना जारी रखना चाहता हूं. मैं दुनिया भर के टूर्नामेंट में खेलना चाहता हूं. यही वजह है कि मैंने वनडे और चार दिवसीय क्रिकेट से इतनी जल्दी संन्यास लिया. लेकिन अभी अगर कोई चमत्कार नहीं होता है तो ऐसा करना असंभव लगता है. मैं गेंदबाजी नहीं कर पा रहा हूं.’’