नई दिल्ली. वर्ल्ड क्रिकेट ने जोंटी रोड्स जैसा फील्डर न कभी देखा था और ना कभी शायद देख पाएगा. क्रिकेट की दुनिया उन्हें सुपरमैन कहकर पुकारती थी. ये इसलिए क्योंकि उनकी फील्डिंग ही कुछ ऐसी थी. 90 के दशक में साउथ अफ्रीका के लिए क्रिकेट खेलते हुए रोड्स ने फील्डिंग की परिभाषा बदल दी थी, उसमें एक नई क्रांति ला दी थी. जोंटी रोड्स का खौफ विरोधी टीमों पर साफ नजर आता था. उनकी फील्डिंग सामने वाली टीम की रणनीति का हिस्सा बनने लगी थी. कहा जाता था कि वो आंखों पर पट्टी बांधकर फील्डिंग की प्रैक्टिस किया करते थे. बहरहाल, अब उसी महान फील्डर जोंटी रोड्स ने ICC के कैमरे पर मॉर्डन क्रिकेट के टॉप 5 फील्डर के नामों पर अपनी मुहर लगाई है. इसमें एक फील्डर ऑस्ट्रेलिया से है, एक इंग्लैंड से, एक इंडिया से जबकि 2 उनके हमवतन यानि साउथ अफ्रीकी से ही हैं. खास बात ये है कि टॉप 5 फील्डर की लिस्ट में रोड्स ने जिसे अपनी फील्डिंग के लेवल ते सबसे करीब माना है और जो उन्हें लगता है कि वो उनकी ही तरह का है, वो कोई और नहीं बल्कि भारतीय फील्डर ही है, नाम है सुरेश रैना.

जोंटी रोड्स की लिस्ट में नंबर 1 पर सुरेश रैना हैं. दूसरे नंबर एबी डीविलियर्स. तीसरे नंबर पर पॉल कॉलिंगवुड. चौथे पर हर्शल गिब्स जबकि पांचवें नंबर पर एंड्रयू साइमंड्स हैं. रैना को नंबर वन बताने के पीछे रोड्स का तर्क है कि उनके दिमाग में इफ या बट नहीं होता. वो कभी डबल माइंड नहीं होते. गेंद पर झपटने को लेकर उनकी सोच मेरी तरह बिल्कुल क्लियर रहती है. और, यही चीज उन्हें बाकी फील्डरों से अलग करती है.

रोड्स की रैंकिग में रैना की बल्ले-बल्ले

रोड्स की लिस्ट में नंबर वन का मुकाम पाकर रैना भी बेहद खुश है और इसके लिए उन्होंने ट्वीट कर आभार भी जताया है.


जोंटी रोड्स ने रैना को नंबर वन फील्डर बताया है. इससे ये भी साफ हो जाता है कि पिछले 3 दशकों के क्रिकेट इतिहास में रोड्स के बाद अगर कोई जबरदस्त फील्डर आया है तो वो सुरेश रैना ही हैं.