जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप (Junior Hockey World Cup) में भारत का अभियान सेमीफाइनल में जर्मनी से हारकर समाप्त हो गया है. भारतीय टीम यहां अपना खिताब बचाने के इरादे से टूर्नामेंट में उतरी थी. अब तक शानदार खेल दिखा रही भारतीय टीम शुक्रवार को यहां 2-4 से हार गई और इस हार के साथ खिताब बचाने का उसका सपना भी चकनाचूर हो गया. फाइनल में अब जर्मनी का मुकाबला अर्जेंटीना से होगा.Also Read - Asia Cup 2022: सिंगापुर को 9-1 से रौंदकर सेमीफाइनल में भारत, गुरजीत की हैट्रिक

भारत तीसरे और चौथे स्थान के मैच में रविवार को फाइनल से पहले फ्रांस से भिड़ेगा. भारत इससे पहले पूल चरण में फ्रांस से 4-5 से हार गया था. लखनऊ में 2016 में जूनियर वर्ल्ड कप खिताब जीतने वाली भारतीय टीम जर्मनी के खिलाफ शुरू से दबाव में आ गई थी. Also Read - कॉमनवेल्थ खेल 2022 में नहीं दिखेगी भारतीय हॉकी, क्वॉरंटीन पर भेदभाव कर रहा था ब्रिटेन तो भारत ने खींचे हाथ

जर्मनी की तरफ से एरिक क्लेनलेन (15वें मिनट), एरोन फ्लैटन (21वें मिनट), कप्तान हेंस मुलर (24वें मिनट) और क्रिस्टोफर कुटर (25वें मिनट) ने गोल किए. भारत के लिए उत्तम सिंह (25वें) और बॉबी सिंह धामी (60वें) ने गोल किए. Also Read - स्टार ड्रैग फ्लिकर Rupinder Pal Singh ने 30 साल की उम्र में लिया संन्यास, यह है कारण

भारतीय टीम ने क्वॉर्टर फाइनल में बेल्जियम के खिलाफ शानदार रक्षण दिखाया था लेकिन जर्मनी के खिलाफ रक्षापंक्ति रंग में नहीं दिखी. मध्य पंक्ति और अग्रिम पंक्ति के बीच भी किसी तरह का तालमेल नहीं दिखा. उत्तम ने हालांकि बीच बीच में अच्छा खेल दिखाया.

जर्मन टीम ने शुरू से ही अच्छा खेल दिखाया. मैक्सीमिलन सीगबर्ग ने शुरू में ही गोल करने का सुनहरा अवसर गंवाया. इसके एक मिनट बाद जर्मनी को पेनल्टी कॉर्नर मिला जिस पर भारतीय गोलकीपर प्रशांत चौहान ने शानदार बचाव किया.

जर्मनी ने पहला क्वॉर्टर समाप्त होने से 25 सेकेंड पहले पहला गोल दागा. क्लेनलेन ने जर्मनी को मिले दूसरे पेनल्टी कॉर्नर पर रिबाउंड पर यह गोल किया. प्रशांत ने इससे पहले फ्लिक पर बचाव कर दिया था.