भारतीय महिला हॉकी टीम ने आत्मविश्वास के दम पर टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) के क्वार्टर फाइनल में ऑस्ट्रेलिया की मजबूत टीम को हराकर पहली बार इन खेलों के सेमीफाइनल में जगह पक्की की। भारत बुधवार को अपने पहले ओलंपिक सेमीफाइनल में अर्जेंटीना के खिलाफ खेलेगा।Also Read - Tokyo Olympics में हारकर भी इतिहास रचने वाली भवानी देवी की तलवार हो सकती है आपकी! जानें पाने का तरीका

भारतीय पुरुष टीम के ओलंपिक सेमीफाइनल में पहुंचने के बाद सोमवार को महिला टीम ने ऑस्ट्रेलिया की विश्व में नंबर दो टीम को 1-0 से हराकर अंतिम चार में जगह बनाई। Also Read - नीरज चोपड़ा, सुमित अंतिल की सफलता के बाद क्रिकेट जितना लोकप्रिय होगा भालाफेंक: अनुराग ठाकुर

भारतीय महिला टीम की कप्तान रानी रामपाल (Rani Rampal) ने इस शानदार जीत के बाद कहा, ‘‘मुझे नहीं पता कि क्या कहूं, क्योंकि इस समय जज्बात पर काबू रखना मुश्किल हैं।  हम सभी बहुत खुश हैं क्योंकि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जीतना आसान नहीं था।’’ Also Read - उत्कृष्टता हासिल करने के लिए विराट कोहली को फॉलो करना चाहते हैं पीआर श्रीजेश

उन्होंने कहा, ‘‘ मुझे हालांकि अपनी टीम पर बहुत गर्व है। हर खिलाड़ी ने वास्तव में पूरे मैच में काफी मेहनत की है।  हमने एक-दूसरे से बस एक ही बात कहा था, ‘बस खुद पर विश्वास करो, हम इसे (ऑस्ट्रेलिया पर जीत दर्ज) कर सकते हैं।’’

कप्तान ने कहा कि आत्मविश्वास और सफलता के प्रति दृढ़ संकल्प ने उन्हें ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल करने में मदद की। रानी ने कहा, ‘‘मुझे विश्वास था कि हम पूरे मैच के दौरान वास्तव में कड़ी मेहनत कर सकते हैं। ये सिर्फ 60 मिनट तक पूरी एकाग्रता के साथ खेलने की बात थी। हम आगे क्या होगा इसके बारे सोचने की जगह मैच के 60 मिनट पर ध्यान देने के साथ अपना सब कुछ झोकने को तैयार थे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि सभी ने ऐसा ही किया, हाँ, मुझे बहुत गर्व है। ये भारत में बहुत बड़ी बात होगी। आप जानते हैं, हमारी टीम का एक आदर्श वाक्य है जिसका अर्थ है कि हम भारत में लड़कियों को प्रेरित करना चाहते हैं।’’

भारतीय कप्तान ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया पर जीत अब अतीत की बात है और उनका ध्यान प्रतियोगिता में बचे हुए दो मैचों पर है। रानी ने कहा, ‘‘हमने सेमीफाइनल में पहुंचकर इतिहास रच दिया था और अब हम सेमीफाइनल खेलने का इंतजार कर रहे है, क्योंकि हम अपने अभियान को हम यहीं खत्म नहीं करना चाहते हैं। इस टूर्नामेंट में हमें पदक जीतने के लिए दो और मैच खेलना बाकी हैं।’’