लुंगी एंगिडी जानते हैं कि उनका बचपन बेहद गरीबी में बीता लेकिन उन्हें खुशी है कि क्रिकेट मैदान पर प्रतिभा और कौशल के सामने सामाजिक या वित्तीय असमानता कोई मायने नहीं रखती. Also Read - South Africa vs Sri Lanka: लुंगी एंगिडी ने दिलाई 10 विकेट से बड़ी जीत, श्रीलंका 0-2 से हुआ क्‍लीन स्‍वीप

Also Read - SA vs SL: चोट से उबरने के बाद Kagiso Rabada साउथ अफ्रीका की टेस्‍ट टीम का बने हिस्‍सा

यशस्वी जायसवाल के रिकॉर्ड दोहरा शतक और धवल कुलकर्णी के ‘पंच’ से जीती मुंबई Also Read - Most T20 Wickets in 2020: पेसर शार्दुल ठाकुर रहे चौथे स्थान पर, एसोसिएट टीमों के 2 गेंदबाज TOP-5 में शामिल

दक्षिण अफ्रीका के इस 23 वर्षीय तेज गेंदबाज ने गरीबी को करीब से देखा है लेकिन यह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में जगह बनाने के लिए कभी आड़े नहीं आई.

एंगिडी ने कहा, ‘मुझे बचपन से ही पता था कि मेरे माता-पिता अन्य परिवारों की तरह अमीर नहीं है. मैंने उन पर कभी उन चीजों के लिये दबाव नहीं बनाया जो उनके सामर्थ्य से बाहर थी. शुरू में मुझे संघर्ष करना पड़ा लेकिन कई लोग थे जिन्होंने मेरी मदद की क्योंकि मेरे माता-पिता किट्स और अन्य चीजें नहीं खरीद सकते थे.’

अश्वेत अफ्रीकी है एंगिडी और रबाडा

एंगिडी और कगीसो रबाडा अश्वेत अफ्रीकी हैं जिनका जन्म रंगभेद की नीति समाप्त होने के बाद हुआ. हालांकि एंगिडी से उलट रबाडा का परिवार वित्तीय तौर पर मजबूत था.

ये दोनों ही आयु वर्ग की क्रिकेट से एक दूसरे के साथी रहे हैं और अब राष्ट्रीय टीम में हैं. रबाडा खुद को स्टार खिलाड़ी के रूप में स्थापित कर चुके हैं.

टीम इंडिया को भी डे-नाइट टेस्ट में पीछे रहने के बजाए आगे बढ़ना चाहिए : सौरव गांगुली

एंगिडी ने कहा, ‘मैं और केजी (रबाडा) स्कूली क्रिकेट में साथ में खेले हैं. वहां से निकलकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर साथ में खेलना शानदार है. हम एक-दूसरे को अच्छी तरह से समझते हैं और इस रिश्ते से मैदान पर चीजें आसान हो जाती हैं.’ वित्तीय स्थिति कभी उनकी दोस्ती में आड़े नहीं आई.

एंगिडी ने कहा, ‘एक बार आप जब क्रिकेट मैदान पर उतर जाते हो तो सभी समान होते हैं. तब केवल आपकी प्रतिभा मायने रखती है. आपको बल्ला या गेंद कैसे पकड़ना है इसमें आपकी वित्तीय स्थिति की कोई भूमिका नहीं होती है. मेरे लिये क्रिकेट को चाहने की यह एक वजह रही.’