नई दिल्ली. दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच वनडे सीरीज के पहले मैच में अगर डेल स्टेन ने इंजरी के बाद अपनी जोरदार वापसी का बिगूल फूंका तो दूसरे वनडे में कैगिसो रबाडा ने अपनी रफ्तार से कंगारुओं की रीढ़ तोड़ दी. कंगारुओं की रीढ़ से मतलब यहां उनकी बल्लेबाजी के मिडिल ऑर्डर से हैं. नतीजा ये हुआ कि ऑस्ट्रेलियाई टीम 50 ओवर भी पूरे नहीं खेल सकी और सिर्फ 231 रन पर ढेर हो गई. पारी खत्म होने के बाद मैच में रबाडा की रफ्तार का शिकार बने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज क्रिस लिन ने कहा कि उनकी टीम ने जीत के स्कोर से 50 रन कम बनाए.

ऑस्ट्रेलिया का मिडिल ऑर्डर उखाड़ा

एडिलेड में खेले जा रहे दूसरे वनडे में साउथ अफ्रीका ने टॉस जीता और ऑस्ट्रेलिया को पहले बल्लेबाजी के लिए उतारा. ऑस्ट्रेलिया को पहला झटका लुंगी नगीदी ने दिया. लेकिन उसके बाद मिडिल ऑर्डर को पवेलियन भेजने की जिम्मेदारी रबाडा ने खुद पर ले ली, जिसकी शुरुआत उन्होंने शॉन मार्श से की. रबाडा ने अपना दूसरा विकेट क्रिस लिन का लिया. हालांकि, इस विकेट के लिए उन्हें पहले अपने ओवर की 4 गेंदों पर खूब रन लुटवाने पड़े. रबाडा की जाल में फंसने से पहले लिन ने उनकी 4 गेंदों पर 18 रन बनाए. ये वनडे क्रिकेट में रबाडा का सबसे महंगा ओवर है.

रबाडा का अगला टारगेट बने ऑस्ट्रेलिया के विकेट कीपर बल्लेबाज कैरे, जिन्होंने अपनी टीम के लिए सबसे ज्यादा 47 रन बनाए. अपना चौथा शिकार रबाडा ने नीचले क्रम में पांव जमाने वाले एडम जंपा का लिया. जंपा ने 22 रन बनाए.

कुल मिलाकर एडिलेड वनडे में रबाडा ने 9.3 ओवर की गेंदबाजी की और 5.68 की इकॉनोमी से 54 रन देकर 4 विकेट चटकाए. इन 4 विकेटों में से 3 विकेट उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई मिडिल ऑर्डर के लिए.