भैंसों की परंपरागत दौड़ (कम्बाला) में शानदार प्रदर्शन करके सोशल मीडिया पर सुर्खियां बटोरने वाले धावक श्रीनिवास गौड़ा ने बैंगलोर स्थित भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) में ट्रॉयल देने से मना कर दिया है। Also Read - IPL आयोजन पर बोले रिजिजू- खेल प्रतियोगिता आयोजित करने के लिए देशवासियों को खतरे में नहीं डाल सकते

कर्नाटक के गौड़ा ने इस प्रतियोगिता के दौरान सिर्फ 13.62 सेकेंड में 145 मीटर की दौड़ लगाई, जिसके बाद ये दावा किया गया कि उन्होंने सिर्फ 9.55 सेकेंड में 100 मीटर की दूरी तय की। उसेन बोल्ट का 100 मीटर दौड़ को 9.58 सेकेंड में पूरा करने का विश्व रिकार्ड है। Also Read - कोरोना वायरस पॉजिटिव रसोइये की मौत के बावजूद साई केंद्र में ही रहेंगे हॉकी खिलाड़ी

सोशल मीडिया में इसके वायरल होने के बाद खेल मंत्री किरेन रीजीजू ने साइ के शीर्ष कोचों की देखरेख में ट्रॉयल कराने का निर्देश दिया था। SAI के मुताबिक गौड़ा ने ट्रायल देने से मना कर दिया। Also Read - बिन शादी पिता बने महान स्प्रिंटर उसेन बोल्ट, मिलिए उनकी गर्लफ्रेंड से

इस मामले से जुड़े एक सूत्र ने पीटीआई से बताया, ‘‘वो (गौड़ा) आज (सोमवार) मुख्यमंत्री से मुलाकात के लिए बैंगलोर पहुंच गया है। SAI का एक दल उससे बातचीत करने और उसे SAI केंद्र में लाने के लिए मुख्यमंत्री कार्यालय में मौजूद है। हमें पता चला है कि वो इसके लिए इच्छुक नहीं है। हमें ये भी पता चला है कि वो चोटिल है।’’

चोट से उबरी सानिया मिर्जा, दुबई ओपन में करेंगी वापसी

कांग्रेस नेता शशि थरूर और व्यवसायी आनंद महिंद्रा ने भी ट्वीट कर खेल मंत्रालय और भारतीय एथलेटिक्स महासंघ से गौड़ा की मदद करने की मांग की। गौड़ा को ट्रायल के लिए बुलाने की सलाह देने के दो दिन बाद रीजीजू ने कहा कि पारंपरिक खेल की तुलना ओलंपिक खेल से करना गलत है।

उन्होंने यहां खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी खेलों के आधिकारिक गान के लॉन्च के मौके पर अपने निवास स्थान पर कहा, ‘‘लोग सोशल मीडिया पर जो भी लिख रहे हैं उस पर मीडिया का नियंत्रण नहीं हो सकता है। अगर हमारे सामने कोई प्रतिभा आती है तो हम उसे मंच और मौका देंगे।’’

एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप के लिए चीन के पहलवानों को नहीं मिला वीजा

उन्होंने कहा, ‘‘ओलंपिक और विश्व चैम्पियनशिप का स्तर काफी ऊंचा है। जो लोग पारंपरिक खेल खेलते हैं उनकी तुलना आप तब तक अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों से नहीं कर सकते जब तक हम आधिकारिक तौर पर उसके प्रदर्शन का आकलन नहीं कर लेते।’’