पाकिस्तान के विकेटकीपर कामरान अकमल ने टीम के पूर्व नेशनल कोच वकार यूनिस की आलोचना करते हुए उनके ऊपर पाकिस्तान क्रिकेट को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाते हुए उनकी कड़ी आलोचना की है. अकमल ने वकार के 2010-2011 और 2014-2016 के दौरान दो बार कोच रहने के दौरान पाकिस्तानी टीम को सफलता के रास्ते में ले जाने में नाकाम रहने के लिए लताड़ा. Also Read - टेस्ट क्रिकेट से समझौता नहीं करने की वजह से आज अपने सुनहरे दौर से गुजर रही है टीम इंडिया: अकमल

कामरान ने कहा कि वकार भाई ने ‘प्रयोग’ करने के अपने उत्साह में महत्पवूर्ण खिलाड़ियों को किनारे कर दिया, और पाकिस्तानी टीम को दो-तीन साल पीछे ढकेल दिया. Also Read - 'भारत की तीन टीमें एक वक्‍त में अंतरराष्‍ट्रीय मैच खेल सकती हैं', पाकिस्‍तानी क्रिकेटर का दावा

ये पहली बार है जब 2016 के टी20 वर्ल्ड कप में हार के बाद कोच पद छोड़ने वाले वकार यूनिस की किसी पाकिस्तानी खिलाड़ी ने खुले तौर पर आलोचना की है. पाकिस्तान के लिए 53 टेस्ट और 157 वनडे खेल चुके कामरान ने कहा, ‘मुझे नहीं पता था कि कुछ खिलाड़ियों के साथ उनके मसले हैं. उनकी पाकिस्तानी टीम को आगे ले जाने की कोई योजना नहीं थी. वर्ल्ड कप 2015 में उन्होंने यूनिस खान से पारी का आगाज कराया या फिर सरफराज अहमद को टूर्नामेंट में आखिर में उतारने को लेकर उनके मसले थे.’ Also Read - टीम इंडिया में Jasprit Bumrah की वही हैसियत है, जो पाकिस्तान में वसीम-वकार की थी: सलमान बट्ट

अकमल ने आरोप लगाया कि वकार ने कुछ खिलाड़ियों को टीम में जमने का मौका नहीं दिया. अकमल ने कहा, ‘मुझे याद है उमर अकमल ने एशिया कप मैच में शतक जमाया था और अगले मैच में वह शाहिद अफरीदी और अन्य बल्लेबाजों के बाद बैटिंग के लिए उतरे. इसमें कोई संदेह नहीं है कि वकार महान खिलाड़ी रहे हैं लेकिन बतौर कोच नाकाम रहे हैं.’

कामरान ने उस घटना को भी याद किया जब उन्हें वेस्टइंडीज दौरे के लिए पाकिस्तान की टीम में चुना गया था और वकार ने उनके चयन पर सवाल उठाते हुए कहा कि टीम में दो विकेटकीपर रखने की क्या जरूरत है. कामरान ने कहा, ‘सबसे मजेदार ये है कि कोच रहते हुए वकार ने खुद भी टीम में दो विकेटकीपर रखे.’