भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर कपिल देव ने इस बात को दोहराया है कि कोविड-19 से निपटने के लिए फंड जुटाने की कवायद में भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय सीरीज के शोएब अख्तर और शाहिद आफरीदी के प्रस्ताव के वह खिलाफ हैं.  इस पूर्व वर्ल्ड चैंपियन टीम के कप्तान का मानना है कि कोरोना वायरस महामारी से उबरने के बाद स्कूल और कॉलेज खोलना युवा पीढी के लिए प्राथमिकता होनी चाहिए.  कुछ समय के लिए खेलों की बहाली टाली जा सकती है. Also Read - अमिताभ बच्‍चन ने 2 करोड़ रुपए दिल्‍ली के गुरु तेग बहादुर COVID Care Centre के लिए दान दिए

कोरोना महामारी के कारण दुनिया भर में खेलों की प्रतियोगिताओं को या तो स्थगित कर दिया गया है या उन्हें रद्द कर दिया गया है.   कपिल ने यूट्यूब चैनल ‘स्पोर्ट्स तक’ से कहाए, ‘मैं वृहत तस्वीर देख रहा हूं.  क्या आपको लगता है कि इस समय बात करने के लिए क्रिकेट ही बचा है.  मैं बच्चों को लेकर चिंतित हूं जो स्कूल और कॉलेज नहीं जा पा रहे हैं.  मैं चाहता हूं कि पहले स्कूल खुलें.  क्रिकेट और फुटबॉल बाद में होते रहेंगे. ’ Also Read - Coronavirus Cases In India: कोरोना के आंकड़ों में मामूली गिरावट, 1 दिन में 3.66 लाख लोग संक्रमित 3747 लोगों की मौत

टीम इंडिया के विकेटकीपर बल्लेबाज रिद्धिमान साहा के घर में चोरी की कोशिश Also Read - 'कोरोना वायरस को जैविक हथियार बनाकर युद्ध लड़ना चाहता था चीन, 2015 में किया था टेस्ट'

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान अगर भारत के साथ द्विपक्षीय क्रिकेट खेलने केा इतना ही बेचैन है तो पहले सरहद पार से भारत विरोधी गतिविधियां बंद करे और वह पैसा नेक काम में लगाए.

बकौल कपिल देव,‘आप भावनाओं के वेग में बहकर कह सकते हैं कि भारत और पाकिस्तान के मैच कराए जाने चाहिए.  इस समय क्रिकेट खेलना प्राथमिकता नहीं है.  अगर आपको पैसा चाहिए तो सीमा पार से गतिविधियां बंद कीजिए. ’

उन्होंने कहा, ‘वह पैसा अस्पतालों और स्कूलों पर लगाइए.  अगर हमें पैसा चाहिए तो हमारे कई धार्मिक संगठन हैं और इस समय आगे आना उनका फर्ज है. ’

‘विराट कोहली में है वो 3 चीजें जिसके दम पर तोड़ सकते हैं अपने आदर्श के रिकॉर्ड’

गौरतलब है कि कोरोना के कहर से पूरी दुनिया इस समय त्रस्त है.  इस वायरस से दुनियाभर में अब तक 1 लाख 80 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है जबकि इससे संक्रमितों की संख्या 30 लाख को पार कर गई है.  भारत में कोरोना से जान गंवाने वालों का आंकड़ा 800 के करीब पहुंच गया है वहीं इससे संक्रमित मरीज 24 हजार को पार कर चुके हैं.