मुंबई। भारत को पहला विश्व कप दिलाने वाले कप्तान कपिल देव ने मीडिया से अपील की है कि वह सैनिकों की कहानियां दिखाएं न कि सनसनीखेज कहानियां. कपिल को 2008 में टेरिटोरियल आर्मी (टीए) में लेफ्टिनेंट की मानद उपाधि मिली थी. कपिल ने यह बात अर्थव संस्थान की भारतीय सेना को श्रद्धांजलि देने की विशेष पहल के मौके पर कही. इस दौरान महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, विक्रम गोखले, अभिनेता आफताब शिवदसानी, नील नीतिन मुकेश और रोहिनी हाटनगाडी भी मौजूद थे.

विश्व विजेता कप्तान ने कहा कि मेरा मानना है कि यह एक मिशन है जिसे हमें आगे ले जाना है. मेरा यह भी मानना है कि काफी कुछ मीडिया पर भी निर्भर करता है कि वह इस पहल को कितनी तवज्जो देती है और इसे कितना दिखाती है. 

कोहली ने पहले वनडे की जीत को बताया 'स्पेशल', कहा- आखिरी टेस्ट की विजयी लय बरकरार रखना चाहते थे

कोहली ने पहले वनडे की जीत को बताया 'स्पेशल', कहा- आखिरी टेस्ट की विजयी लय बरकरार रखना चाहते थे

कपिल ने मीडिया से अपील करते हुए कहा कि मैं मीडिया से अपील करता हूं कि हमें सनसनीखेज कहानियां नहीं दिखानी चाहिए. इसके बजाए हमें उन युवाओं की कहानियां दिखानी चाहिए जिन्होंने अपनी जिंदगी देश पर कुर्बान की है.

भारतीय टीम आईसीसी अंडर-19 विश्व कप के फाइनल में भिड़ेगी. कपिल ने उम्मीद जताई है कि पृथ्वी शॉ की कप्तानी वाली टीम इस बार खिताब जीतने में सफल रहेगी. उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि अंडर-19 टीम विश्व कप जीत कर वापस आएगी.