नई दिल्ली: मयंक अग्रवाल (90) और कृष्णप्पा गौथम (3/27) के दम पर कर्नाटक ने मंगलवार को फिरोजशाह कोटला मैदान पर खेले गए विजय हजारे ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले में सौराष्ट्र को 41 रनों से हराकर खिताबी जीत दर्ज की. कर्नाटक ने इस जीत के साथ ही तीसरी बार यह खिताब अपने नाम तीसरी बार अपने नाम किया है. इससे पहले उसने 2013-14, 2014-15 में विजय हजारे ट्रॉफी अपने नाम की थी. Also Read - India vs England: आलोचना झेल रहे अजिंक्य रहाणे-चेतेश्वर पुजारा के समर्थन में उतरे कप्तान कोहली

Also Read - WATCH: सर्जरी के बाद मैदान पर लौटे रवींद्र जडेजा; इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में कर सकते हैं वापसी

सौराष्ट्र ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया. कर्नाटक ने मयंक की शानदार पारी के दम पर 45.5 ओवरों में सभी विकेट गंवाकर 253 रन बनाए. 79 गेंदों पर 11 चौके और तीन छक्के लगाने वाले मयंक के अलावा रविकुमार सामर्थ ने 49 तथा पवन देशपांडे ने 48 रनों की पारी खेली. श्रेयष गोपाल ने भी 31 रनों का योगदान दिया. Also Read - पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने कहा- रवींद्र जडेजा सोच रहे होंगे उनकी चोट ठीक होने में इतना समय क्यों लग रहा है

कोहली पर पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान का बड़ा बयान, कहा जरूरत से ज्यादा आक्रामक हैं विराट

सौराष्ट्र की ओर से कमलेश मकवाना ने 34 रन देकर चार सफलता हासिल की. इसके अलावा प्रीराक मांकड ने दो विकेट लिए. दो खिलाड़ी रन आउट हुए. जवाब में सौराष्ट्र की टीम कप्तान चेतेश्वर पुजारा (94) की शानदार अर्धशतकीय पारी के बावजूद 46.3 ओवरों में सभी विकेट गंवाकर 212 रन ही बना सकी और हार गई.

देखें वीडियो –

पुजारा ने 127 गेंदों का सामना कर 10 चौके और एक छक्का लगाया. वह रन आउट हुए. इसके अलावा कोई और बल्लेबाज चल नहीं सका. चिराग जानी ने 22 रन जोड़े. मकवाना 22 रनों पर नाबाद लौटे. कर्नाटक की ओर से कृष्णपप्पा गौतम और प्रसिद्ध कृष्णा को तीन-तीन विकेट मिले. इसके अलावा, स्टुअर्ट बिन्नी और पवन देशपांडे को एक-एक सफलता मिली.