नई दिल्ली : किदाम्बी श्रीकांत को शुक्रवार को टोक्यो में पुरूष एकल स्पर्धा में तीन गेम तक चले मैराथन क्वार्टरफाइनल में हार का सामना करना पड़ा जिससे 700,000 डॉलर इनामी राशि के जापान ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में भारतीय चुनौती भी समाप्त हो गयी.

अन्य भारतीय खिलाड़ियों की तरह सातवें वरीय श्रीकांत भी थके हुए लग रहे थे, वह एक घंटे 19 मिनट तक चले मुकाबले में कोरिया के ली डोंग केयून के खिलाफ एक गेम की बढ़त गंवा बैठे जिससे उन्हें 21-19 16-21 18-21 से पराजय मिली.

पूर्व नंबर एक खिलाड़ी श्रीकांत ने गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक जीता था. पिछले दौर में उन्होंने हांगकांग के वोंग विंग कि विन्सेंट को सीधे गेम में हराकर एशियाई खेलों की हार का बदला चुकता किया था.

इंग्लैंड के दिग्गज खिलाड़ी ने क्रिकेट से लिया संन्यास, मिडलसेक्स के खिलाफ खेलेंगे आखिरी मैच

श्रीकांत के बाहर होने से भारतीय खिलाड़ियों का जापान ओपन में अभियान समाप्त हो गया. ओलंपिक पदकधारी और एशियाई खेलों की रजत पदकधारी पीवी सिंधू और एच एस प्रणय गुरूवार को क्रमश: महिला और पुरूष एकल में हारकर बाहर हो गये थे. पुरूष युगल में भी भारतीय खिलाड़ी आगे बढ़ने में असफल रहे. मनु अत्री और बी सुमित रेड्डी की जोड़ी गुरूवार को प्री क्वार्टरफाइनल में पस्त हो गयी थी.

गौरतलब है कि श्रीकांत और पीवी सिंधु विश्व बैडमिंटन महासंघ (बीडब्ल्यूएफ) की ओर से गुरुवार को जारी एकल रैंकिग में अपने-अपने स्थान पर कायम हैं. श्रीकांत पुरुषों के एकल रैंकिग में 63835 अंकों के साथ आठवें नंबर पर बने हुए हैं. डेनमार्क के विक्टर एक्सेलसन शीर्ष पर हैं.

एशिया कप 2018: पाकिस्तान को धूल चटाने के लिए काफी हैं टीम इंडिया के ये करिश्माई गेंदबाज

महिला एकल में एशियाई खेलों की रजत पदक विजेता सिंधु 85414 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर कायम हैं. एशियाई खेलों के फाइनल में सिंधु को हराने वाली ताइवान की ताइ जू यिंग 98317 अंकों की बदौलत महिला एकल रैंकिंग में शीर्ष पर हैं. सायना नेहवाल 58014 अंकों के मदद से 10वें नंबर पर हैं.