नई दिल्ली : भारतीय पुरुष बैडमिंटन खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत और समीर वर्मा पुरुष एकल वर्ग में अपने-अपने क्वार्टर फाइनल मुकाबले हारकर शुक्रवार को हॉन्गकॉन्ग ओपन से बाहर हो गए. इसके साथ इस टूर्नामेंट में भारतीय चुनौती समाप्त हो गई. चौथी सीड श्रीकांत को पुरुष एकल के क्वार्टर फाइनल में जापान के निशिमोटो केंटा से 17-21, 13-21 से शिकस्त खानी पड़ी.

आठवीं सीड केंटा ने श्रीकांत को 44 मिनट में हराकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया. इस जीत के साथ ही केंटा ने श्रीकांत के खिलाफ अपना करियर रिकॉर्ड 1-3 का कर लिया है. जापानी खिलाड़ी ने इस वर्ष अप्रैल में एशियाई चैम्पियनशिप में श्रीकांत से मिली हार का बदला भी चूकता कर लिया है.

केंटा ने पहले गेम से ही मुकाबले में अपना दबदबा कायम रखा और उन्होंने 23 मिनट में 21-17 से पहला गेम जीत लिया. दूसरे गेम में भी जापानी खिलाड़ी 11-3 से आगे थे और फिर उन्होंने इसके बाद लगातार अंक लेकर 21-13 से गेम और मैच अपने नाम कर लिया.

IPL 2019 से पहले 71 खिलाड़ी हुए बाहर, जानें किस टीम ने किसे दी जगह

पुरुष एकल के प्री-क्वार्टर फाइनल में वॉकओवर पाने वाले समीर को क्वार्टर फाइनल में चीन के ली चेउक यियु ने 21-15, 19-21, 21-11 से मात दी. समीर टूर्नामेंट में एकमात्र भारतीय उम्मीद थे और अब उनके हारने के बाद भारतीय चुनौती समाप्त हो गई है.

वर्ल्ड नंबर-47 ली ने एक घंटे 13 मिनट के मैराथन संघर्ष में यह मैच अपने नाम किया. इस जीत के साथ ही ली ने समीर के खिलाफ अपना करियर रिकॉर्ड 1-1 का कर लिया है. वर्ल्ड नंबर -18 समीर ने इस वर्ष मार्च में न्यूजीलैंड ओपन में ली को हराया था और अब ली ने उस हार का हिसाब यहां चूकता कर लिया.

डुप्लेसिस ने ऑस्ट्रेलियाई टीम को दी सलाह, कहा – कोहली को शांत रखना है तो चुप रहना

चीनी खिलाड़ी ने 22 मिनट में 21-15 से पहला गेम जीत लिया. लेकिन समीर ने दूसरे गेम में अच्छा संघर्ष दिखाया और 11-11 से पहले बराबरी हासिल करने के बाद उन्होंने लगातार अंक लेकर दूसरा गेम 21-19 से अपने नाम किया.

तीसरे गेम में ली अच्छे लय में नजर आए और उन्होंने 5-5 की बराबरी से बाहर निकलते हुए पहले तो 9-6 की बढ़त बनाई. इसके बाद का खेल एकतरफा हो गया और चीनी खिलाड़ी ने 14-7 की बढ़त बनाने के बाद 21-11 से गेम और मैच जीतकर सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया.