साल 2014 में भारतीय टीम में कदम रखने के बाद भी स्क्वाड में जगह पक्की करने को लेकर मुश्किलों का सामना कर रहे शीर्ष क्रम बल्लेबाज केएल राहुल (KL Rahul) के लिए पिछला सीजन शानदार रहा। राहुल ने ना केवल बल्लेबाजी क्रम में हरसंभव भूमिका निभाई है बल्कि विकेटकीपिंग दस्तानें भी पहन लिए। Also Read - टी20 क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए टेस्ट क्रिकेट को खत्म ना करें: इंजमाम उल हक

हालांकि राहुल रिषभ पंत (Rishabh Pant) को टीम में बतौर विकेटकीपिंग बल्लेबाज की जगह के लिए कड़ी प्रतिद्वंद्विता दी है लेकिन वो दिग्गज महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की जगह नहीं लेना चाहते। राहुल ने कहा कि विकेटों के पीछे धोनी की जगह लेने का दबाव बहुत ज्यादा है क्योंकि इससे फैंस की उम्मीदें जुड़े हैं। Also Read - पूर्व इंग्लिश कप्तान माइकल वॉन की सलाह; सैंडपेपर गेट को भूल आगे बढ़े क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया

स्टार स्पोर्ट्स के कार्यक्रम ‘क्रिकेट कनेक्टेड’ में कहा, ‘‘जब मैं भारत की तरफ से विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी निभा रहा था तो नर्वस था क्योंकि दर्शकों के कारण आप पर दबाव रहता है। अगर आप चूक जाते हैं तो लोग सोचते हैं कि आप महेंद्र सिंह धोनी की जगह नहीं ले सकते। धोनी जैसे दिग्गज विकेटकीपर की जगह लेने का दबाव बहुत अधिक था, क्योंकि विकेटकीपर के रूप में किसी को स्वीकार करने पर लोगों के दिमाग में यह बात जरूर आती है।’’ Also Read - MS Dhoni ने भी चलाई IPL के दौरान तलवार तो Ravindra Jadeja ने निकाली कमी, वायरल हुआ Video

अब तक 32 वनडे और 42 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके राहुल ने कहा कि विकेटकीपिंग उनके लिए नया काम नहीं है क्योंकि वो इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के दौरान तथा अपनी रणजी टीम कर्नाटक की तरफ से पहले भी ये भूमिका निभा चुके हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘जो लोग क्रिकेट पर नजर रखते हैं वे जानते हैं कि मैं लंबे समय तक विकेटकीपिंग से दूर नहीं रहा क्योंकि मैंने आईपीएल और जब भी कर्नाटक की तरफ से खेला तब विकेट के पीछे भी जिम्मेदारी संभाली।’’

राहुल ने कहा, ‘‘मैं हमेशा विकेटकीपिंग के संपर्क में रहता हूं लेकिन मैं ऐसा इंसान भी हूं जो टीम की जरूरत के हिसाब से किसी भी तरह की भूमिका निभाने के लिये तैयार रहता हूं।’’