भारतीय क्रिकेट इतिहास में सबसे सफल कप्तानों की सूची में जगह बनाने वाले महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की कप्तानी का स्टाइल सबसे जुदा है। पूर्व दिग्गज कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के हाथों से वनडे टीम की कमान लेने वाले धोनी दादा की आक्रामक शैली की विपरीत शांत स्वभाव और धैर्य के साथ कप्तानी करने के लिए जाने जाते हैं। धोनी की कप्तानी का ये गुण उन्हें दिग्गज भारतीय गेंदबाज अनिल कुंबले (Anil Kumble) से मिला है, ऐसा कहना है कि पूर्व सलामी बल्लेबाज क्रिस श्रीकांत (Kris Srikkanth) का। Also Read - सूर्यकुमार यादव को घूर रहे थे विराट कोहली, अब मुंबई इंडियंस ने यूं दिया जवाब

भारतीय टीम के चयनकर्ता रह चुके श्रीकांत ने कहा कि कुंबले से सीखने की वजह से धोनी को लीडरशिप के गुण समझ में आए। उन्होंने कहा, “जब धोनी 2007 टी20 विश्व कप में कप्तान था तो उसने टीम को अच्छे से संभावा, जीत से उसका आत्मविश्वास बढ़ा। वो हमेशा से शांत स्वभाव का था, वो खिलाड़ियों को प्रेरित करने है। गांगुली टीम में जो आक्रामक शैली लेकर आया था, एमएस उससे एकदम अलग था।” Also Read - IPL 2020: ब्रायन लारा ने बताया- इस सीजन चेन्नई सुपरकिंग्स से कहां हो गई गलती!

उन्होंने कहा, “जब कुंबले टेस्ट टीम का कप्तान था तो वो धोनी के लिए सीखने का अच्छा समय था। अनिल ने उसे जरूरी अनुभव दिया, धोनी ने खिलाड़ियों को काफी प्रेरणा दी।” Also Read - CSK vs KKR Highlights: रवींद्र जडेजा के छक्के से चेन्नई ने कोलकाता को 6 विकेट से हराया

2008 में टेस्ट टीम के कप्तान बने धोनी ने टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक जीत हासिल करने वाले भारतीय कप्तान होने का गांगुली की रिकॉर्ड तोड़ा। साथ ही भारतीय टीम को टेस्ट रैंकिंग में नंबर एक पर भी पहुंचाया।

2014 में ऑस्ट्रेलिया दौरे के बीच में ही धोनी ने अचानक टेस्ट फॉर्मेट से संन्यास का ऐलान कर दिया, जिसके बाद टेस्ट टीम की कप्तानी विराट कोहली (Virat Kohli) को मिली। 2017 में इस दिग्गज ने वनडे और टी20 टीम की कप्तानी से भी इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद अब कोहली तीनों फॉर्मेट में भारतीय टीम की अगुवाई कर रहे हैं।