नई दिल्ली: बांग्लादेश के खिलाफ चल रहे टेस्ट मैचों की सीरीज में भारतीय क्रिकेट टीम अपनी कौशलता का भरपूर प्रमाण दे रही है. इंदौर में हुए पहले टेस्ट मैच में भारत ने मेहमान टीम को आसानी से धूल चटा दी. बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों के बीच बैलेंस करती टीम इंडिया अब पटरी पर दिख रही है. ईडन गार्डन में 22 नवंबर से शुरू होने वाले दूसरे टेस्ट मैच को लेकर पूरा देश उत्साह से भरा हुआ है.

यह मैच भारतीय क्रिकेट के लिए ऐतिहासिक होने वाला है क्योंकि यह पहला डे एंड नाईट नेस्ट मैच होगा. इस मैच का खेल गुलाबी गेंद से होने वाला है जो कि इस मैच के आकर्षण का प्रमुख केंद्र भी होगा. बहुत सारी विभिन्नताओं से सराबोर ये होने वाला मैच दोनों टीमों के प्लेइंग एलेवेन को लेकर भी काफी चर्चा में बना हुआ है.

केवल डे-नाइट मैच भारत में टेस्ट क्रिकेट को पूरी तरह से नहीं बचा पाएगा: राहुल द्रविड़

ईडन गार्डन की बात करें तो इस मैदान में तेज गेंदबाज का जलवा हमेशा से चलता आया है. स्पिनर्स के मुकाबले तेज गेंदबाज इस मैदान में ज्यादा सफल हुए हैं. लेकिन आगामी मैच में यह विश्लेषण उलट भी सकते हैं. अगर आंकड़ें की बात करें तो अब तक 11 डे एंड नाईट टेस्ट मैच पूरी दुनिया में खेले गए हैं और उनमें 366 विकेट लिए गए हैं. इस उपलब्धि में स्पिनर्स के हाथों महज 66 ही विकेट आए हैं.

अब ये भी जानना अहम है कि एशियन कंडीशन में इन 11 डे एंड नाईट टेस्ट मैचों में 2 मैच खेला गया है और इनमें स्पिनर्स ने अच्छा प्रदर्शन किया है. इन दो मैचों में 73 विकेट लिए गए और इनमें से 43 विकेट स्पिन गेंदबाजों ने अपने नाम किया है. दिलचस्प बात तो ये है कि इन दोनों मैचों में लेग स्पिनर्स का जादू चला है.

VIDEO: विराट की इस दीवानी ने चिल्ला-चिल्ला कर कह दी दिल की बात, फिर जो हुआ वो देखने लायक है

टीम इंडिया के पास स्पिनर्स के नाम पर अश्विन और जडेजा तो हैं मगर दोनों फिंगर स्पिनर ही हैं. ऐसे मौके पर टीम इंडिया के स्क्वाड में शामिल कुलदीप यादव जो की लेग स्पिनर है इन दोनों दिग्गजों से ज्यादा उपयोगी साबित हो सकते हैं. आंकड़ों के इतिहास से अगर भारतीय क्रिकेट टीम कुछ सीखना चाहती है तो चयनकर्ताओं की नजर उमेश, इशांत, अश्विन और जडेजा के बजाय कुलदीप यादव पर होगी.