भारत और श्रीलंका के बीच साल 2011 में मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में वनडे वर्ल्ड कप का फाइनल मैच खेला गया था. मेजबान टीम ने मेहमान को 6 विकेट से हराकर दूसरी बार वर्ल्ड चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया था. हाल में इस फाइनल मैच को श्रीलंका के पूर्व खेल मंत्री महिंदानंदा अलुथगामगे ने फिक्स बताया था जो अब तूल पकड़ता जा रहा है. श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा ने शेष जांच समिति को 10 घंटे तक बयान दर्ज कराए जो देश के पूर्व खेल मंत्री के इन आरोपों की जांच कर रही है कि भारत के खिलाफ टीम का 2011 विश्व कप फाइनल ‘कुछ पक्षों’ ने फिक्स किया था.Also Read - West Indies vs South Africa, 5th T20I: Quinton de Kock ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड, Kumar Sangakkara को छोड़ा पीछे

पूर्व श्रीलंकाई खेल मंत्री ने लगााए  हैं आरोप  Also Read - WTC Final, IND vs NZ: विराट कोहली ने रच दिया इतिहास, ICC टूर्नामेंट में कोई ना कर सका था ये कारनामा

अलुथगामगे ने आरोप लगाए थे कि दो अप्रैल 2011 को खेला गया फाइनल फिक्स था. उन्होंने हालांकि इसके संदर्भ में कोई ठोस सबूत नहीं दिए. इसके बाद श्रीलंका के खेल मंत्रालय ने जांच शुरू की. ‘न्यूजवायर.एलके’ के अनुसार विश्व कप 2011 फाइनल में श्रीलंका की कप्तानी करने वाले संगकारा ने 10 घंटे से अधिक समय तक अपना बयान दर्ज कराया. हालांकि उन्होंने क्या बयान दिया इसकी जानकारी नहीं मिली है. Also Read - भारतीय दिग्गज सचिन तेंदुलकर बने 21वीं सदी के सबसे महान टेस्ट बल्लेबाज; श्रीलंका के संगाकारा को पछाड़ा

वेबसाइट के अनुसार, ‘श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा ने खेल मंत्रालय के विशेष पुलिस जांच विभाग में लगभग 10 घंटे तक बयान दर्ज कराए. ’

वेबसाइट के अनुसार इस दौरान युवाओं की पार्टी समागी थारुना बालावेगाया के सदस्य श्रीलंका क्रिकेट के कार्यालय के बाहर पोस्टर लेकर एकत्रित हुए और आरोप लगाने लगे कि इस दिग्गज क्रिकेटर को अधिकारी प्रताड़ित कर रहे हैं.

अरविंद डी सिल्वा भी दर्ज करा चुके हैं बयान 

इससे पहले श्रीलंका के पूर्व कप्तान और मुख्य चयनकर्ता अरविंद डी सिल्वा से कथित तौर पर छह घंटे पूछताछ की गई थी. श्रीलंकाई ओपनर उपुल थरंगा से भी समिति ने मंगलवार को पूछताछ की थी.