भारत के खिलाफ 2011 में मुंबई के वानखेड़े स्‍टेडियम में खेले गए फाइनल मैच को श्रीलंका के पूर्व खेल मंत्री द्वारा फिक्‍स बताए जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। Also Read - BCCI के बाद ICC के बॉस बनेंगे सौरव गांगुली; कुमार संगकारा ने किया समर्थन

बुधवार को अरविंद डि सिल्‍वा से पूछताछ के बाद अब जांच समिति ने इस मामले में गुरुवार को पूछताछ के लिए कुमार संगकारा को बुलाने का निर्णय लिया है। Also Read - 'बीएलएम' मूवमेंट पर बोले कुमार संगकारा: रातों रात नहीं होगा बदलाव

डेली मेल डॉट एलके की रिपोर्ट के मुताबिक, संगकारा को विशेष समिति ने गुरुवार को पूछताछ के लिए बुलाया है। विश्‍व कप 2011 के दौरान कुमार संगाकारा ही श्रीलंका की टीम के कप्तान थे। Also Read - आर अश्विन बोले-रिकी पोंटिंग के सामने नया था जबकि कुमार संगकारा के आगे जीवन के सबसे अच्छे फॉर्म में था

इससे पहले श्रीलंकाई क्रिकेटर उपुल थरंगा से भी समिति ने मंगलवार को पूछताछ की थी। न्यूजफस्र्ट डॉट एलके की रिपोर्ट के मुताबिक, थरंगा विशेष जांच समिति के सामने पेश हुए। थरंगा ने उस मैच में 20 गेंदों पर सिर्फ दो रन बनाए थे और जहीर खान का शिकार बने थे।

थरंगा से पहले श्रीलंका के पूर्व कप्तान और मुख्य चयनकर्ता अरविंद डी सिल्वा से कथित तौर पर छह घंटे पूछताछ की गई थी। खेल मंत्री महिंदानंदा अलुथगमागे ने दावा किया था 2011 में मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला गया फाइनल मैच फिक्स था।

उन्होंने कहा था, “2011 विश्व कप फाइनल फिक्स था, मैं अपनी बात पर कायम हूं। यह तब हुआ था जब मैं खेल मंत्री था।”

“मैं हालांकि देश की खातिर जानकारी साझा नहीं कर सकता। भारत के खिलाफ 2011 में खेला गया मैच, हम जीत सकते थे, लेकिन वो फिक्स था।”