नई दिल्ली. जहां बड़े-बड़े नामों की बोली लगाई जा रही हो, उसमें अगर एक अदना सा खिलाड़ी आकर बाजी मार ले तो इसे महफिल लूट लेना नहीं कहेंगे तो और क्या कहेंगे. लेकिन, हकीकत ये है कि जिसने महफिल लूटी वो IPL की मंडी में बस अपने नाम से ही गुमनाम था, उसके काम ने पहले ही उसकी पहचान बता दी थी. हम बात कर रहे हैं IPL 2019 के ऑक्शन में अपनी बेस प्राइस से 42 गुणा ज्यादा बोली में बिके वरूण चक्रवर्ती की. Also Read - BCCI AGM: 2022 से IPL में होंगी 10 टीमें, घरेलू क्रिकेटरों के नुकसान की भरपाई करेगा बोर्ड

KXIP ने 8.40 करोड़ में खरीदा Also Read - Chennai Super Kings के पूर्व ऑलराउंडर ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से लिया संन्यास, IPL फ्रेंचाइजी के लिए कही ये बात

वरूण की बेस प्राइस 20 लाख रूपये थी. लेकिन, किंग्स XI पंजाब ने इन्हें 8 करोड़ 40 लाख रूपये में खुद से जोड़ा. ये रकम वरूण की बेस प्राइस से 42 गुणा ज्यादा तो है ही साथ ही इसने इस सीजन के सबसे महंगे बिके खिलाड़ियों के क्लब में भी उन्हें शामिल करा दिया है. Also Read - Syed Mushtaq Ali T20 Tournament: 7 साल बैन के बाद टीम इंडिया के इस पूर्व पेसर की हुई केरल टीम में वापसी

वरूण की तरकस में 7 तीर

अब सवाल है कि जिस क्रिकेटर का नाम सुना भी नहीं था उसे आखिर इतनी बड़ी रकम मिली कैसे. तो इसकी 3 बड़ी वजह है. पहली वजह है वरूण का मिस्ट्री स्पिनर के तौर पर जाना जाना, जिनके तरकश में एक या दो नहीं बल्कि पूरे 7 तीर यानी कि 7 वैरिएशन हैं. जैसा कि खुद वरूण कहते हैं वो ऑफ ब्रेक, लेग ब्रेक, गुगली, कैरम बॉल, फ्लिपर, टॉप स्पिन और स्लाइडर यॉर्कर, जो सीधे बल्लेबाज के अंगूठे पर जाकर हिट है करती है, फेंक सकते हैं.

TNPL में सबसे बेहतर इकॉनोमी

TNPL-2018 में उन गेंदबाजों के बीच वरूण चक्रवर्ती सबसे बेहतर इकॉनोमी वाले गेंदबाज रहे थे, जिन्होंने कम से कम 15 ओवर डाले थे. और ये भी एक बड़ा फैक्टर रहा जिस वजह से उनपर इतना बड़ा दांव किंग्स इलेवन पंजाब ने खेला.

विजय हजारे ट्रॉफी में दूसरे सफल गेंदबाज

वरूण चक्रवर्ती पर करोड़ों का दांव खेलने की पंजाब की तसरी बड़ी वजह इस साल विजय हजारे ट्रॉफी में उनकी शानदार सफलता भी रही. विजय हजारे में इस साल वरूण ने 22 विकेट चटकाए और वो सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले टूर्नामेंट के दूसरे गेंदबाज रहे.