नई दिल्ली. फीफा वर्ल्ड कप 2018 में लियोनेल मेसी की अर्जेन्टीना का सफर प्री-क्वार्टर फाइनल में थम गया या यूं कहें कि क्वार्टर फाइनल से पहले ही उस पर ब्रेक लग गया. सवाल है फुटबॉल के महाकुंभ से मेसी और उनकी टीम को आउट किसने किया. यकीनन आपका जवाब फ्रांस होगा, जो कि सही भी है लेकिन इसमें सबसे बड़ा रोल एक टीनेजर का रहा. जी हां, फ्रांस को क्वार्टर फाइनल का टिकट दिलाने और अर्जेन्टीना के सफर पर विराम लगाने में एक टीनेजर की भूमिका सबसे अहम रही. ये टीनेजर फ्रांस की फुटबॉल टीम का एक अहम सदस्य है और जब रूसी सरजमीं पर अर्जेन्टीना से उसकी टीम की जोरदार टक्कर चल रही थी तो उसमें उसका अटैक अपने चरम पर था. Also Read - FIFA Best Men's Player Award (IN PICS): लियोनल मेसी-Cristiano Ronaldo का टूटा वर्चस्व, Robert Lewandowski पहली बार बने फीफा के सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलर

‘Teenager’ की बायोग्राफी Also Read - स्वर्गीय माराडोना को श्रद्धांजलि देने के लिए जर्सी उतारने के लिए मेसी पर लगा जुर्माना

टीनेजर ने कैसे किया अर्जेन्टीना का बेड़ा गर्क वो बताएं उससे पहले जरा उसकी बायोग्राफी समझ लें. फ्रांस के टीनेजर फुटबॉलर का नाम है किलियान म्बापे और इसकी उम्र सिर्फ 19 साल है. साल 1998 में जब फ्रांस जिदान के शानदार खेल की बदौलत फुटबॉल का वर्ल्ड चैंपियन बना था तो उस एतिहासिक लम्हें के 6 महीने बाद म्बापे का जन्म हुआ था. फ्रांस की फुटबॉल टीम में म्बापे की जर्सी का नंबर 10 है और वो अपनी टीम के स्टार फॉरवर्ड हैं. Also Read - फुटबॉलर लियोनल मेसी ने शुरू की ट्रेनिंग, इस वजह से अब तक टीम से नहीं जुड़ पाए

मेसी को किया ‘Out’

अब जरा ये समझिए कि किलियान म्बापे ने मेसी एंड कंपनी को वर्ल्ड कप से आउट करने में अहम भूमिका कैसे निभाई. प्री-क्वार्टर फाइनल में फ्रांस ने अर्जेन्टीना को 4-3 से हराया. फ्रांस की इस जबरदस्त जीत में अर्जेन्टीना के गोल पोस्ट में 4 में से 2 गोल अकेले किलियान म्बापे ने दागे. नतीजा ये हुआ कि 19 साल के म्बापे ने मेसी को तो आउट किया ही साथ ही ब्लैक पर्ल के नाम से मशहूर ब्राजील के पूर्व फुटबॉलर पेले की बराबरी भी कर ली.

पेले को किया ‘Catch’

अर्जेन्टीना के खिलाफ 2 गोल दागकर म्बापे वर्ल्ड कप के एक मैच में 2 गोल दागने वाले पेले के बाद दूसरे टीनेजर फुटबॉलर बने हैं. म्बापे से पहले पेले ने 1958 वर्ल्ड कप में स्वीडन के खिलाफ 2 गोल दागने का कमाल किया था.