अपने खिलाफ भारत में गैर-जमानती वारंट जारी होने की खबरों का खंडन करते हुए भारत में क्रिकेट प्रशासक रह चुके ललित मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) का प्रतिद्वंद्वी बोर्ड स्थापित करने की अपनी योजना का खुलासा कर दिया।

मोदी ने दावा किया है कि क्रिकेट का नया अंतर्राष्ट्रीय बोर्ड ओलम्पिक से संबद्ध होगा तथा टेस्ट और टी-20 के नए टूर्नामेंट आयोजित करवाएगा और अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय से उसका कोई लेना-देना नहीं होगा।

आईसीसी के चेयरमैन इस समय भारत के एन. श्रीनिवासन हैं और मोदी को श्रीनिवासन का धुर प्रतिद्वंद्वी माना जाता है।

आस्ट्रेलियाई प्रसारक ‘एबीसी’ के कार्यक्रम ‘फोर कॉर्नर’ के तहत सोमवार को ‘द ग्रेट क्रिकेट कप’ शीर्षक से प्रसारित हुए एपिसोड में मोदी ने कहा, “हम क्रिकेट के बिल्कुल अलग सिस्टम के बारे में बात कर रहे हैं। इसकी रूपरेखा तैयार हो चुकी है और मैंने इस पर अपनी मुहर लगा दी है।”

मोदी ने कहा, “मैं इसमें शामिल हूं। मैं पहली बार इसका खुलासा कर रहा हूं। इसकी रूपरैखा तैयार करने में मेरी भी भूमिका है। हमारी योजना सिर्फ टेस्ट और टी-20 क्रिकेट के आयोजन की है। एकदिवसीय पर विचार नहीं किया गया।”

उन्होंने कहा, “मेरे खयाल से आज के दौर में एकदिवसीय पूरी तरह व्यर्थ हो चुका है। मेरा विचार है कि सिर्फ टेस्ट और टी-20 खेले जाने चाहिए।”

लगातार विवादों में घिरे रहे मोदी को इंडियन प्रीमीयर लीग (आईपीएल) शुरू करने का श्रेय जाता है। हालांकि इन दिनों वह इंग्लैंड में निर्वासित जीवन व्यतीत कर रहे हैं।

मोदी ने कहा, “हमने नए अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट बोर्ड पर विस्तार से योजना तैयार की है। इस योजना को तैयार होने में वर्षो लगे हैं।”

मोदी को आईपीएल के कमिश्नर पद से 2010 में हटाया गया। इसके बाद 2013 में मोदी को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) में प्रशासक के तौर पर आजीवन प्रतिबंधित कर दिया गया।

पिछले सप्ताह मुंबई की एक विशेष अदालत ने भारत के प्रवर्तन निदेशालय की याचिका पर ललित मोदी को गिरफ्तार करने के लिए उनके खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी किया है। मोदी पर आईपीएल-2009 के टेलीविजन प्रसारण अधिकार देने के बदले रिश्वत लेने का आरोप है।

श्रीनिवासन ने भी 2010 में भ्रष्टाचार और मनी लांडरिंग के आरोप में मोदी के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी।

मोदी ने श्रीनिवासन या बीसीसीआई के प्रति अपनी कड़वाहट छिपाए बगैर कहा, “वे तीनों भारतीय क्रिकेट में आस्तीन के सांप हैं। उनका गला पकड़कर उनकी सर कलम कर देने की जरूरत है, अन्यथा क्रिकेट का भविष्य अंधकारमय है।”

मोदी ने अपनी अति-महत्वाकांक्षी योजना में अंतर्राष्ट्रीय ओलम्पिक समिति को शामिल करने की योजना का खुलासा करते हुए कहा, “मैंने ही इसका प्रस्ताव रखा। आईसीसी इस पर कभी राजी नहीं होगा, मतलब कभी भी नहीं। इसका मतलब है कि वे आईसीसी को इससे हमेशा दूर रखेंगे। यह एक ऐसी योजना है जिसे यदि किसी दिन मैं अमली जामा पहना सका तो विश्व क्रिकेट का हूलिया बदल जाएगा।”

मोदी ने कहा, “आईपीएल की मार्केटिंग जिस तरह हुई है उससे इसने खेल में नया इतिहास रचा है। मेरे खयाल से यह एक बार फिर इतिहास रचेगा।”