नॉटिंघम। भारतीय टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री का कहना है कि कप्तान विराट कोहली का जुनून एकदम अलग है और खेल को लेकर उनकी समझ क्रिकेट के महानायक सचिन तेंदुलकर के जैसी ही है. कोहली ने इंग्लैंड के खिलाफ मौजूदा टेस्ट सीरीज में दो शतक जड़े हैं और अब तक 440 रन बना चुके हैं. पांच मैचों की सीरीज में पहले दो मैच हारने के बाद पिछड़ी भारतीय टीम ने वापसी करते हुए ट्रेंट ब्रिज में खेला गया तीसरा टेस्ट मैच जीत लिया.

विराट में क्रिकेट को लेकर जुनून

शास्त्री ने ‘स्काई स्पोर्ट्स’ के लिए माइक अथर्टन को दिए एक इंटरव्यू में कहा, उनमें (कोहली) खेल को लेकर काफी जुनून है. उन्हें बल्लेबाजी करना बहुत पसंद है. उन्हें कड़ी मेहनत करना पसंद है. खेल के प्रति उनकी लगन असाधारण है और मैंने इस तरह का कोई और खिलाड़ी नहीं देखा है. तैयारी, स्थितियों को ध्यान में रखने के लिहाज से मैं (सचिन) तेंदुलकर को उस श्रेणी में रखूंगा, वह जिस तरह से योजना बनाते हैं, स्थिति को समझते हैं. यह किसी भी इंसान में सबसे अच्छे गुण हैं.

नॉटिंघम टेस्ट: विराट प्रदर्शन कर कोहली बने मैन ऑफ द मैच, केरल बाढ़ पीड़ितों को समर्पित की जीत

उन्होंने कहा कि नॉटिंघम में 97 और 103 रन की दो शानदार टेस्ट पारियों के बावजूद कोहली अगले मैच में शून्य से शुरूआत करेंगे. कोच ने कहा, मैं दावा करता हूं कि उन्होंने ये दोनों पारियों भुला दी हैं. वह बल्लेबाजी ऐसे उतरेंगे कि उन्होंने अब तक सीरीज में रन ही नहीं बनाए हैं.

अब तक का बेस्ट गेंजबाजी लाइनअप

पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी ने एक बार फिर कहा कि भारतीय टीम की गेंदबाजी भारतीय क्रिकेट इतिहास में पिछले सर्वश्रेष्ठ आक्रमण से कहीं बेहतर है. शास्त्री ने कहा, वह कहीं बेहतर था. अगर आप देखें तो इंग्लैंड की दशाओं के लिहाज से दो असरदार सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार हैं.

भारत 203 रनों से जीता

बता दें कि नॉटिंघम में हुए तीसरे टेस्ट में विराट कोहली और टीम ने जबरदस्त वापसी करते हुए इंग्लैंड को करारी हार झेलने पर मजबूर कर दिया. कोहली ने पहली पारी में 97 रन बनाए और वह मात्र 3 रनों से सेंचुरी बनाने से चूक गए. इसकी कसर उन्होंने दूसरी पारी में निकालते हुए 103 रन बनाए. इसकी बदौलत भारत ने इंग्लैंड के सामने 521 रनों का विशाल लक्ष्य रखा. इंग्लैंड की पूरी टीम 317 रनों पर सिमट गई और भारत ने 203 रनों से मैच अपने नाम कर लिया.