नई दिल्ली : टीम इंडिया के ओपनर खिलाड़ी लोकेश राहुल ने इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में आखिरी टेस्ट मैच से पहले कुछ खास नहीं कर पाए. लगातार हार का सामना कर रही टीम इंडिया के लिए आखिरी टेस्ट मैच में जीत हासिल करना भी बेहद चुनौतीपूर्ण हो गया है. लेकिन राहुल ने शतक लगाकर एक उम्मीद कायम कर दी है. हालांकि अभी तक दूसरे छोर से भारत को संभालने वाला कोई बल्लेबाज नहीं मिला. राहुल लंच ब्रेक तक 108 रन बना लिए. उनके इस बेहतरीन शतक ने एक उपलब्धि हासिल की.Also Read - भुवनेश्वर कुमार नहीं दीपक चाहर को 2023 विश्व कप के लिए टीम में होना चाहिए: सुनील गावस्कर

Also Read - Virat Kohli को दूसरी बार कप्तानी से हटाए जाने का खतरा था... Sunil Gavaskar का बड़ा बयान

दरअसल 5 टेस्ट मैचों की सीरीज में भारत 1-3 से पीछे चल रहा है और आखिरी मुकाबला ओवल में खेला जा रहा है. इसके आखिरी दिन राहुल ने लंच ब्रेक तक 126 गेंदों का सामना करते हुए 17 चौकों और 1 छक्के की मदद से 108 रन बना लिए. राहुल बतौर भारतीय ओपनर इंग्लैंड में टेस्ट मैच की चौथी पारी में शतक जड़ने वाले दूसरे खिलाड़ी बन गए. उनसे पहले सुनील गावस्कर ने 1979 में ओवल में 221 रन की पारी खेली थी. गावस्कर का यह शतक यादगार रहा था. उनके बाद अब राहुल ने शतक जड़ा. Also Read - ना रोहित शर्मा, ना केएल राहुल, Sunil Gavaskar ने इसे बताया अगला टेस्ट कप्तान

INDvsENG: एलिस्टर कुक ने जसप्रीत बुमराह को कहा ThankYou, शतक के बाद बतायी वजह

राहुल के टेस्ट करियर पर नजर डालें तो यह उनका पांचवां टेस्ट शतक है. इससे पहले उन्होंने 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई में धमाकेदार बल्लेबाजी करते हुए 199 रन बनाए थे. इससे पहले वेस्टइंडीज के खिलाफ किंग्सटन में 158 रन की पारी खेली. यह मुकाबला भी साल 2016 में खेला गया. इससे पहले 2015 में श्रीलंका के खिलाफ कोलंबो में 108 रन की पारी खेली. वहीं राहुल ने पहला टेस्ट शतक 2015 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जड़ा.

Asia Cup 2018: 6 टीम, 13 मुकाबले, 14 दिन…एशियाई देशों के बीच सबसे बड़ी जंग…देखें पूरा शेड्यूल

बता दें कि भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहे टेस्ट सीरीज के आखिरी मुकाबले में इंग्लैंड ने पहली पारी में 332 रन और दूसरी पारी में 423 रन बनाकर पारी घोषित कर दी. वहीं टीम इंडिया पहली पारी में 292 रन पर ऑल हो गयी. अब वह दूसरी पारी खेल रही है. भारत को लंच ब्रेक तक जीत के लिए 297 रनों की जरूरत थी.